Trending News

युवा दिवस: क्रिकेटर ऋषि धवन बोले- नशे से दूर रहने के लिए खेल को बनाएं जीवन का हिस्सा

Himachal Pradesh

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर ऋषि धवन ने राष्ट्रीय युवा दिवस पर संदेश दिया कि हमेशा आउटडोर खेलों में ज्यादा हिस्सा लेना चाहिए। इससे वह नशे जैसी बुरी आदत से भी दूर रहेंगे और मन भी शांत रहेगा। जो व्यक्ति मन से ही हार जाता है वह कभी भी सफल नहीं होता।

नशे और तनाव से दूर रहने के लिए युवाओं को एक खेल जरूर अपनी जिंदगी में खेलना चाहिए। इस खेल को रोजाना एक से आधा घंटा जरूर देना चाहिए। यह संदेश युवा दिवस के मौके पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर ऋषि धवन ने दिया है। उन्होंने कहा कि हमेशा आउटडोर खेलों में ज्यादा हिस्सा लेना चाहिए। 

इससे वह नशे जैसी बुरी आदत से भी दूर रहेंगे और मन भी शांत रहेगा। जो व्यक्ति मन से ही हार जाता है वह कभी भी सफल नहीं होता। इसलिए हर युवा को अपने मन पर नियंत्रण रखने की कला आनी चाहिए। युवाओं के लिए क्रिकेट, फुटबाल, बैडमिंटन, हॉकी जैसे खेल बहुत ही बेहतर हैं। इनमें अगर कोई युवा दिन में कुछ पल भी खेल लेता है तो उसका तनाव और थकान दूर हो जाती है। इसके साथ ही नशा करने की आदत भी दूर हो जाती है। ऋषि धवन मंडी जिले के रहने वाले हैं। हाल ही में उन्होंने अपनी कप्तानी में हिमाचल को पहली बार विजय हजारे क्रिकेट ट्रॉफी दिलाई है। 

सामाजिक क्षेत्र में भी सक्रिय

ऋषि धवन का कहना है कि हालांकि उनका पूरा फोकस एक बार फिर से अंतरराष्ट्रीय टीम में वापसी करने का है, लेकिन इसके साथ ही वह सामाजिक कार्यों में भी भूमिका निभाना चाहते हैं। वह मंडी रेडक्रॉस सोसायटी के ब्रांड एंबेसडर रह चुके हैं और इस दौरान कई जरूरतमंद लोगों के लिए कुछ करने का अवसर मिला। 

राष्ट्रीय युवा दिवस: पिता का सपना पूरा करने के लिए लड़कों के साथ हिमाचल की रेणुका ठाकुर ने खेला क्रिकेट

हिमाचल प्रदेश के  शिमला जिले के रोहड़ू पारसा गांव की रेणुका आज हिमाचल की हर बेटी के लिए प्रेरणा बन गई हैं। तीन साल की उम्र में रेणुका के पिता का देहांत हो गया, पिता चाहते थे कि उनकी बेटी और बेटा भारत के लिए क्रिकेट खेलें।

https://www.amarujala.com/shimla/national-youth-day-renuka-played-cricket-with-boys-to-fulfill-her-father-s-dream?src=story-related-auto

पिता का सपना पूरा करने के लिए गांव के मैदान में लड़कों के साथ क्रिकेट खेलने वाली हिमाचल प्रदेश के  शिमला जिले के रोहड़ू पारसा गांव की रेणुका आज हिमाचल की हर बेटी के लिए प्रेरणा बन गई हैं। तीन साल की उम्र में रेणुका के पिता का देहांत हो गया, पिता चाहते थे कि उनकी बेटी और बेटा भारत के लिए क्रिकेट खेलें। सिर से पिता का साया छिन जाने के बाद परिवार की पूरी जिम्मेदारी मां के कंधों पर आ गई। मां ने आईपीएच में चतुर्थ श्रेणी के पद पर सेवाएं देकर घर चलाने के साथ बेटी के क्रिकेट के जुनून को कम नहीं होने दिया। 

गांव के मैदान में रेणुका लड़कों को खेलते हुए देखती थी। एक दिन उससे रहा नहीं गया और मैदान में पहुंच कर लड़कों से कहा कि वह भी क्रिकेट खेलेंगी। इसी बीच 2009 में एचपीसीए ने धर्मशाला में अकादमी शुरू की, तब रेणुका महज 14 साल की थी। अकादमी के लिए ट्रायल दिया और वह चुन ली गईं। यहीं से रेणुका का क्रिकेटर बनने का सपना साकार होना शुरू हुआ। नियमित अभ्यास और खेल में अच्छे प्रदर्शन के चलते 2019 में रेणुका का चयन भारतीय महिला की ए टीम के लिए हुआ। 2021 में रेणुका का चयन आस्ट्रेलिया दौरे के लिए भारत की सीनियर महिला टीम में हुआ।

www.newsreportinglive.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

Himachal Pradesh Kullu Mandi Shimla

Himachal : ऊपरी शिमला(Upper Shimla), मंडी(Mandi) के ऊंचे इलाके, कुल्लू (Kullu) कटा |

Himachal (Shimla) :

Himachal : ऊपरी शिमला(Upper Shimla) क्षेत्र और मंडी(Mandi) और कुल्लू(Kullu) जिलों के ऊंचे इलाकों से संपर्क टूट गया है, जबकि राज्य के अधिकांश

Himachal Pradesh Solan

Himachal : कसौली(Kasauli), सोलन(Solan), बरोग(Barog), दगशाई में सीजन की पहली बर्फबारी |

Himachal (Solan) :

Himachal : सोलन जिले के कसौली(Kasauli), सोलन(Solan), बरोग(Barog) और डगशाई में शुक्रवार को सीजन की पहली बर्फबारी हुई।

इन हिल स्टेशनों पर

Himachal Pradesh Kangra

Himachal : कांगड़ा( Kangra ) में 100 पूर्व भूस्खलन चेतावनी प्रणालियां होंगी |

Himachal :

Himachal( Kangra ) : कांगड़ा के जिला प्रशासन ने कांगड़ा जिले और उसके आसपास के क्षेत्रों के लिए उपग्रह आधारित सबसिडेंस सिस्टम प्रोफाइल के