UP पंचायत चुनव परिणाम: जीवन की जंग हार कर भी प्रधान बनी महिला प्रत्याशी, जानें कैसे वोट से मिली जीत

India


प्रतापगढ़ में पंचायत चुनाव के नतीजे काफी खराब हैं।

यूपी पंचायत चुनव परिणाम 2021: यूपी के प्रतापगढ़ में ग्राम प्रधान (ग्राम प्रधान) के चुनाव में जीवन की जंग हारने वाली पोशाक सिंह की जीत चर्चा का कारण बनी हुई है। दरअसल कालाकांकर ग्राम पंचायत की निवर्तमान प्रधान संगठन सिंह की 19 अप्रैल को वोटिंग के बाद तबीयत बाधित हो गई थी और मतगणना से तीन दिन पहले उनका निधन हो गया था।

प्रतापगढ़। परतार प्रदेश के प्रतापगढ़ में पंचायत चुनाव के रिजल्ट (यूपी पंचायत चुनव परिणाम 2021) बड़े तेजी से आ रहे हैं। इस दौरान ग्राम प्रधान (ग्राम प्रधान) के चुनाव में किसी प्रत्याशी को जीत मिलती है, तो किसी को हार का सामना करना पड़ता है। इसी तरह पंचायत चुनाव के मतगणना के दौरान कई आकर्षक मामले भी सामने आए हैं। प्रतापगढ़ में यूपी पंचायत चुनाव में एक मृतक प्रत्याशी ने जीत का परचम लहरा दिया, तो मतगणना स्थल पर हड़कंप मच गया। दरअसल प्रतापगढ़ की कालाकांकर ग्राम पंचायत की निवर्तमान प्रधान पोशाक सिंह की पंचायत चुनाव की वोटिंग के बाद तबीयत बिगड़ गयी थी और उसकी बात उनका निधन हो गया था। प्रतापगढ़ में 19 अप्रैल को दूसरे चरण में मतदान हुआ था। हीरा सिंह की जीत से सब हैरान मतगणना के बाद जब परिणाम आया तो संगठन सिंह को विजयी घोषित किया गया। 2021 के पंचायत चुनाव में संगठन सिंह के सामने उनके परिवार के ऐश्वर्य प्रताप सिंह चुनावी मैदान में थे। मतगणना के बाद मृतका सौंदर्य सिंह 451 वोट पाकर विजयी हुए, तो उनके प्रतिद्वंद्वी ऐश्वर्य प्रताप सिंह को 303 वोट मिले। इस प्रकार मृतक पोशाक ने जीवन से जंग हराने के बाद भी प्रधानी का चुनाव जीत लिया। वर्तमान में उनकी जीत क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है।मृतका संगठन का कई वर्षों से प्रधानी के चुनाव में दबदबा रहा कालाकांकर की निवर्तमान प्रधान पोशाक सिंह पहली बार 2000 में निर्विरोध ग्राम प्रधान जोड़े थे। 2005 में ग्राम पंचायत की सीट आरक्षित होने पर उन्होंने अपने प्रत्याशी रामजी सरोज को जीत दिलाई। इसके बाद 2010 में संगठन के हाथ में ग्राम प्रधान की सत्ता फिर से आ गई। यही नहीं, 2015 में संगठन सिंह फिर से अपने गांव से निर्विरोध ग्राम प्रधान निर्वाचित हुए। इस बार भी उन्होंने जीत हासिल की, लेकिन वह जिंदगी की जंग हार गए। कहीं 1 वोट तो कहीं तीन वोट से मिली जीत
प्रतापगढ़ में पंचायत चुनाव मतगणना में ग्राम प्रधान के तौर पर तमाम सीटों पर बेहद कड़ा मुकाबला देखने को मिला है। कालाकांकर ब्लॉक की शेषपुर धनापुर ग्राम पंचायत में सुषमा मौर्य ने सिर्फ एक वोट से जीत दर्ज की। सुषमा को 254 वोट मिले, तो उनके प्रतिद्वंद्वी विजय सिंह को 253 वोट मिले। जबकि सदर ब्लॉक के नौबस्ता गांव में शीलू ने अपने प्रतिद्वंद्वी विश्व प्रकाश को केवल तीन वोटों से प्रधानी के कांटे के मुकाबले में साहसस्त किया। शीलू को 217 मत, तो उनके प्रतिद्वंद्वी विश्व प्रकाश को 214 मत मिले। इसके अलावा मधवापुर ग्राम पंचायत की प्रत्याशी श्यामवती ने सिर्फ पांच वोट से जीत दर्ज की। श्यामवती को 302 वोट, तो उनकी प्रतिद्वंद्वी उर्मिला देवी को 297 वोट मिले।








Source link

यूपी पंचायत चुनाव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

सिर्फ ५० से ६० हजार रु। में शुरू करें

इस व्यवसाय को शुरू करने से आप अच्छी मुनाफा कमा सकते हैं अगर आप भी कोई बिजनेस शुरू करने का प्लान बना रहे हैं तो आप शोरूम का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। बटनरूम (बटन मशरूम) एक ऐसी जाति है जिसमें मिनरल्स (खनिज) और विटामिन (विटामिन) प्रचुर मात्रा में होता है। इसी तरह बेनिफिट्स की

India

एक्सपर्ट बोले- मई के मध्य से अंत तक कोरोना के मामलों में आने लगेगी गिरावट

मशहूर विशेषज्ञ गगनदी कांग की भविष्यवाणी, मई मध्य से अंत तक कोरोना के मामले में गिरावट आ जाएगी कोरोनावायरस अपडेट: विशेषज्ञों ने कहा कि वर्तमान में यह उन क्षेत्रों में जा रहा है, जहां वह पिछले साल नहीं पहुंचा है। मध्य वर्ग को अपना शिकार बना रहा है, ग्रामीण क्षेत्र में अपना पैर पसार है

India

सिर्फ पिनुय विजयन की वजह से नहीं, एकजुट प्रयास से मिली केरल में जीत: माकपा मुखपत्र

इस प्रचंड जीत के साथ विजयन केरल में तीसरे ऐसे मुख्यमंत्री हो गए हैं जिनकी अगुवाई में लगातार कुछ चुनाव जीते गए। केरल विधानसभा चुनाव: मुखपत्र के संपादन और माकपा के पूर्व महासचिव प्रकाश करत इस संपादकीय में विजयन को ‘सुप्रीम लीडर’ (सर्वोच्च नेता) या ‘स्ट्रांग मैन’ (सशक्त व्यक्ति) कहे जाने पर आपत्ति जताते हुए

India

दिल्ली के बाद महाराष्ट्र में केंद्र ने लगाए आरोप, स्वास्थ्य मंत्री बोले-ऑक्सीजन आवंटन में 50% टन की कमी

वर्तमान में कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है। महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की आपूर्ति: महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने कहा कि यदि ऑक्सीजन की आपूर्ति बहाल नहीं की गई तो हम गंभीर कमी का सामना करेंगे। उन्होंने कहा कि हमें इस अवधि में केंद्र से अधिक ऑक्सीजन मिलनी आवश्यक है। मुंबई।