India

कोरोना से बचने के लिए खाने में क्या शामिल है, किससे दूरी बनाएं? डब्ल्यूएचओ ने बताया

नई दिलवाली देश में कोरोनावायरस (कोरोना) का संक्रमण एक बार फिर अपना विकराल रूप दिखाने लगा है। कोरोनावायरस (कोरोनावायरस) का नया रूप बहुत संक्रामक है और जरा सी लापरवाही इस महामारी को न्‍यूनत देने की तरह है। कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए बार बार हाथ धोना, माई लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन

India

सबको वैक्सीन देने वाला भारत क्यों हुआ खरीदने को मजबूर? टेंशन दुनिया में

इस महीने भरत का वैक्सीन एक्सपोर्ट बुरी तरह प्रभावित हुआ है। (सांकेतिक चित्र) भारत के लिए इस वक्त अपने देश की जरूरतों का ध्यान रखना जरूरी हो गया है। लेकिन दुनिया का वैक्सीन हब (वर्ल्ड वैक्सीन हब) कहा जाने वाला भारत अगर खुद पर फोकस करेगा तो कई देशों के लिए चिंताजनक स्थितियां पैदा हो

India

कोरोनावायरस कहां से आया था, आई डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट

कोरोना से अब तक जानने में लाखों लोगों की मौत हो चुकी है। डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट कोरोनावायरस पर: कोरोनावायरस पर डब्लूएचओओ के अध्ययन पर मंत्रालय ने कहा कि इसमें को विभाजित -19 महामारी की उत्पति के संबंध में चार रास्तों का उल्लेख है लेकिन साथ ही क्षेत्र में अगले चरण के अध्ययन की जरूरत पर

कोवैक्स योजना के माध्यम से कोविड-19 शॉट्स प्राप्त करने के कारण देशों का सवाल था कि किसी भी गंभीर कोविड-19 वैक्सीन साइड इफेक्ट्स की स्थिति में मुआवजे के दावों को कैसे संभाला जाएगा (सांकेतिक तस्वीर)
India

92 गरीब देशों में कोरोना वैक्सीन के गंभीर साइड इफेक्ट पर मुआवजा मिलेगा, डब्ल्यूएचओ

कोविक्स योजना के माध्यम से को विभाजित -19 साल प्राप्त करने के कारण देशों का सवाल था कि किसी भी गंभीर को विभाजित -19 वैक्सीन साइड इफेक्ट्स की स्थिति में मुआवजे के दावों को कैसे संभाला जाएगा (सांकेतिक चित्र) कोवाक्स: कोविक्स एडवांस मार्केट कमिटमेंट- 92 गरीब देशों का एक समूह है जिसमें अधिकांश अफ्रीकी और

सैफ अली खान की ऑनस्क्रीन बेटी अलाया ने शेयर की हैरान कर देने वाली अपनी PHOTO
India

अब संजीवनी बनीगी ‘कोविशील्ड’, ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को WHO पैनल की हरी झंडी- News18 हिंदी

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के पैनल ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका (ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका) की वैक्सीन बड़े स्तर पर इस्तेमाल किए जाने की संस्तुति की है। इस वैक्सीन प्रोजेक्ट में भारत का सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया) भी पार्टनर रहा है। दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता सीरम डिप्लोमा ने इस वैक्सीन का भारत में