Max India to buy shares by giving 37 percent higher price to shareholders, will be bought at Rs 85 per share | मैक्स इंडिया शेयरधारकों को 37 प्रतिशत ज्यादा भाव देकर खरीदेगी शेयर, 85 रुपए प्रति शेयर पर की जाएगी खरीदी

Published by Razak Mohammad on

  • Hindi News
  • Business
  • Market
  • Max India To Buy Shares By Giving 37 Percent Higher Price To Shareholders, Will Be Bought At Rs 85 Per Share

मुंबई4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मैक्स इंडिया स्पांसर ग्रुप की शेयर होल्डिंग 41 प्रतिशत से बढ़कर 51 प्रतिशत हो जाएगी। 27 अगस्त तक प्रमोटर और प्रमोटर ग्रुप की होल्डिंग 40.89 प्रतिशत थी

  • कंपनी का शेयर सोमवार को 62 रुपए पर बंद हुआ है जबकि खरीदी 85 रुपए पर होगी
  • मैक्स इंडिया ने कहा है कि वह कुल 92 करोड़ रुपए के मूल्य के शेयरों की खरीदी करेगी

मैक्स इंडिया ने कहा है कि वह वर्तमान शेयरधारकों से 92 करोड़ रुपए के शेयरों को वापस खरीदेगी। इसके लिए कंपनी ने 85 रुपए प्रति शेयर का भाव तय किया है। यह खरीदी कैपिटल रिडक्शन प्रोग्राम के तहत की जाएगी। कंपनी ने एनएसई को यह जानकारी दी है। कंपनी का शेयर 14 सितंबर को 62 रुपए पर बंद हुआ था। इसका मतलब यह है कि 37 प्रतिशत प्रीमियम पर कंपनी शेयरों को खरीदेगी।

28 अगस्त को लिस्ट हुई थी कंपनी

मैक्स इंडिया पिछले महीने डिमर्जर प्रक्रिया के तहत 28 अगस्त को स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्ट हुई थी। इसके पास ट्रेजरी कार्पस के रूप में 400 करोड़ रुपए है। यह पैसा पहले की इसकी सब्सिडियरी मैक्स बूपा के विनिवेश प्रक्रिया से मिला है। इसी में से कंपनी 92 करोड़ रुपए शेयरों को खरीदने पर खर्च करेगी।

शेयर धारकों को देगी रिवार्ड

मैक्स इंडिया ने कहा कि वह कैपिटल रिडक्शन प्रोग्राम के तहत शेयर धारकों को यह रिवार्ड देगी। उसने मैक्स बूपा के विनिवेश के समय ही यह बात कही थी। कंपनी 85 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से 20 प्रतिशत शेयर होल्डिंग खरीदेगी। 400 करोड़ रुपए में से 300 करोड़ रुपए से अधिक का इस्तेमाल वृद्धि तथा अन्य ऑपरेशनल खर्चों के लिए किया जाएगा। मैक्स इंडिया तीन अरब डॉलर के मैक्स समूह की कंपनी है।

कंपनी के पास खर्चों के लिए है 400 करोड़ रुपए

कंपनी के वाइस चेयरमैन मोहित तलवार ने कहा कि हमारे पास वृद्धि और अन्य खर्चों के लिए अभी भी पूंजी है। यह 400 करोड़ रुपए है। कैपिटल रिडक्शन प्रस्ताव को पब्लिक शेयरहोल्डर्स से एक विशेष रिजोल्यूशन के जरिए मंजूरी लेनी होगी। इसके अलावा कंपनी को सेबी और एनसीएलटी से भी मंजूरी लेनी होगी। अप्रूवल प्रोसेस अगले 6-8 महीने में पूरा होने की संभावना है।

आउट स्टैंडिंग शेयर में आएगी कमी

कैपिटल रिडक्शन के बाद मैक्स इंडिया का आउटस्टैंडिंग शेयर 20 प्रतिशत तक कम होकर 4.3 करोड़ रह जाएगा। यह अभी 5.38 करोड़ शेयर है। मैक्स इंडिया स्पांसर ग्रुप की शेयर होल्डिंग 41 प्रतिशत से बढ़कर 51 प्रतिशत हो जाएगी। 27 अगस्त तक प्रमोटर और प्रमोटर ग्रुप की होल्डिंग 40.89 प्रतिशत थी। मैक्स इंडिया स्पांसर ओपन ऑफर के लिए भी सेबी से राहत चाहेगी। कंपनी ने कहा है कि यह कैपिटल रिडक्शन सेबी के छूट के फैसले के तहत है। इसलिए कंपनी को उम्मीद है कि वह ओपन ऑफर लाने से बच जाएगी।

0

Source link

Categories: Business

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *