Iranian currency fell sharply to new low sold 262000 riyals against one dollar | ईरान की मुद्रा भारी गिरावट के साथ नए निचले स्तर पर पहुंची, एक डॉलर के मुकाबले 2,62,000 रियाल बिके

Published by Razak Mohammad on

  • Hindi News
  • Business
  • Iranian Currency Fell Sharply To New Low Sold 262000 Riyals Against One Dollar

नई दिल्ली3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

2015 में शक्तिशाली देशों के साथ ईरान के हुए परमाणु समझौते के समय 32,000 रियाल के बदले एक डॉलर मिल रहा था

  • गुरुवार को 2,56,000 रियाल के मुकाबले ट्रेड कर रहा था एक डॉलर
  • जून के आखिर में एक डॉलर के मुकाबले 2,00,000 रियाल ट्रेड कर रहे थे

ईरान की मुद्रा में शनिवार को भारी गिरावट दर्ज की गई और इसने डॉलर के मुकाबले ऐतिहासिक निचला स्तर छू लिया। जून के बाद से डॉलर के मुकाबले ईरान की मुद्रा में 30 फीसदी गिरावट दर्ज की जा चुकी है। मुद्रा विनिमय करने वाले दुकानों ने शनिवार को प्रत्येक डॉलर के बदले 2,62,000 ईरानी रियाल का एक्सचेंज किया।

गुरुवार को एक डॉलर के बदले 2,56,000 रियाल की ट्रेडिंग हो रही थी। शुक्रवार को साप्ताहांत के कारण ईरान के बाजार बंद थे। जून के आखिरी दिनों में एक डॉलर के मुकाबले 2,00,000 रियाल ट्रेड कर रहे थे।

परमाणु समझौते से अमेरिका के हटने पर रियाल में आई भारी गिरावट

ईरान ने 2015 में जब दुनिया के शक्तिशाली देशों के साथ परमाणु समझौता किया था, तब प्रत्येक डॉलर के मुकाबले 32,000 रियाल ट्रेड कर रहे थे। दो साल से कुछ ज्यादा पहले जब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने परमाणु समझौते से अमेरिका को अलग कर ईरान पर कई व्यापारिक प्रतिबंध लगा दिए उसके बाद ईरान की मुद्रा में कुछ समय तक भारी गिरावट देखी गई। इन पाबंदियों के कारण ईरान के तेल निर्यात में भारी गिरावट आई है।

मुद्रा को संभालने के लिए हर संभव कोशिश कर रही ईरान की सरकार

शुक्रवार को ईरान के केंद्रीय बैंक के प्रमुख अब्दुलनासिर हिम्मती ने कहा कि सरकार मुद्रा बाजार की स्थिति को संभालने की हर संभव कोशिश कर रही है। ईरान के अधिकारी कई महीनों से निर्यातकों को चेतावनी दे रहे हैं कि वे विदेश में रखी गई अपनी आय को ईरान लाएं, वरना उनका निर्यात लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा। केंद्रीय बैंक ने चेतावनी दी है कि वह आदेश का पालन नहीं करने वालों के नाम सार्वजनिक करेगा।

आधी कमाई विदेश में ही छोड़ देते हैं ईरान के निर्यातक

जून में केंद्रीय बैंक ने कहा था कि ईरानी कंपनियों हर साल 40 अरब डॉलर मूल्य के गैर-तेल उत्पादों का निर्यात करती हैं। अधिकारियों का कहना है कि इस निर्यात से होने वाली आय का करीब आधा हिस्सा विदेश में ही रह जाता है।

नया टैक्स:आरबीआई की लिबराइज्ड रेमिटेंस स्कीम के तहत विदश भेजे जाने वाले पैसे पर अगले महीने से लगेगा 5% टैक्स

0

Source link

Categories: Business

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *