Interest rates in the US will remain close to zero by 2023, the Federal Reserve did not change interest rates | साल 2023 तक अमेरिका में ब्याज दरें शून्य के करीब रहेंगी, फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया

Published by Razak Mohammad on

  • Hindi News
  • Business
  • Interest Rates In The US Will Remain Close To Zero By 2023, The Federal Reserve Did Not Change Interest Rates

मुंबई13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

केंद्रीय बैंक की समिति अब पूरे साल के जीडीपी में 3.71 प्रतिशत की गिरावट देखती है। हालांकि जून में 6.5% के ड्रॉप वाले पूर्वानुमान से यह बेहतर है

  • केंद्रीय बैंक की दो दिनों की बैठक बुधवार की देर रात समाप्त हुई
  • बैंक के चार सदस्यों ने संकेत दिया कि वे 2023 तक जीरो रेट्स को देखते हैं

अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में कोई परिवर्तन न करने का फैसला किया है। इसके साथ ही अब साल 2023 तक अमेरिका में ब्याज दरें शून्य के करीब रहेंगी। बुधवार देर रात फेडरल रिजर्व बैंक ने इसकी घोषणा की। दो दिवसीय बैठक कल रात समाप्त हुई थी। इस बैठक में कोरोना और जीडीपी पर भी बैंक ने चर्चा की।

मौजूदा आर्थिक स्थिति के लिहाज से लिया गया फैसला

फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पॉवेल ने कहा कि बैठक में यह फैसला लिया गया है कि मौजूदा आर्थिक स्थिति को देखते हुए ब्याज दरों को शून्य के करीब ही रखा जाए। यह दर 2023 तक इसी स्तर पर रहेगी। यह पहली बार हुआ है जब अमेरिकी केंद्रीय बैंक ने ब्याज दरों को कायम रखने के लिए इतनी लंबी अवधि का फैसला लिया है। बैठक में यह भी फैसला किया गया है कि महंगाई की दर यदि दो प्रतिशत तक बढ़ती है तो भी ब्याज दरों से कोई छेड़छाड़ नहीं होगी।

बैंक के चार सदस्यों ने संकेत दिया कि वे 2023 तक जीरो रेट्स को देखते हैं। यह पहली बार था जब समिति ने 2023 के लिए अपने दृष्टिकोण का पूर्वानुमान लगाया था।

नई पॉलिसी व्यवस्था पर फोकस

इसके अलावा, अधिकारियों ने एक नई पालिसी व्यवस्था की तरफ ध्यान दिया जिसमें महंगाई की दर को नियंत्रित किया जाएगा। अध्यक्ष जेरोम पॉवेल ने बैठक के बाद कहा कि ये बदलाव लंबे समय के लिए हमारी मजबूत प्रतिबद्धता को स्पष्ट करते हैं। उन्होंने कहा कि मुद्रास्फीति जब लगातार इतने लंबे समय तक लक्ष्य से नीचे चल रही है तो कुछ समय के लिए 2 प्रतिशत से ऊपर मामूली मुद्रास्फीति को प्राप्त करने का लक्ष्य होगा।

लंबे समय तक मॉनिटरी पॉलिसी उदार रहेगी

बैठक के बाद के बयान में कहा गया कि समिति मौद्रिक नीति के एक उदार रुख को तब तक बनाए रखने की उम्मीद करती है जब तक कि इन परिणामों को हासिल नहीं किया जाता है। समिति ने कहा कि जब तक लेबर मार्केट की स्थिति रोजगार की समिति के ऑकलन के स्तर तक पहुंच नहीं जाती है और मुद्रास्फीति 2 प्रतिशत तक बढ़ जाती है तब तक इस लक्ष्य सीमा को बनाए रखना उचित होगा।

3 सालों तक जीरो रहेगी ब्याज दर

उन्होंने कहा कि हम कम से कम 2022 और 2023 तक के लिए अभी भी जीरो ब्याज दरों की संभावना को देख रहे हैं। औसत अनुमान के माध्यम से, हालांकि वहां कुछ लोग हैं जिन्हें लगता है कि यह 2023 में समाप्त हो जाएगा। पावेल ने कहा कि समिति का मानना है कि जब तक अर्थव्यवस्था रिकवरी के मोड में रहेगी तब तक रेट्स काफी अनुकूल रहने वाले हैं।

जीडीपी, बेरोजगारी के नजरिए में बदलाव

दरों के फैसले के अलावा समिति ने आने वाले वर्षों के लिए जीडीपी, बेरोजगारी और महंगाई के लिए अपने दृष्टिकोण में बदलाव किया है। समिति अब पूरे साल के जीडीपी में 3.71 प्रतिशत की गिरावट देखती है। हालांकि जून में 6.5% के ड्रॉप वाले पूर्वानुमान से यह बेहतर है। इसने अपने 2021 आउटलुक को 5% से 4% और 2022 को 3.5% से घटाकर 3% कर दिया। समिति को 2023 में 2.5% जीडीपी ग्रोथ की उम्मीद है।

0

Source link

Categories: Business

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *