Importance Of Insurance In Financial Planning | Role of Insurance In Your Financial Planning | कोविड जैसी महामारी में सुरक्षा के साथ फाइनेंशियल प्लानिंग में भी महत्वपूर्ण है इंश्योरेंस, अचानक आनेवाले भारी-भरकम खर्च से मिलता है छुटकारा

Published by Razak Mohammad on

  • Hindi News
  • Utility
  • Importance Of Insurance In Financial Planning | Role Of Insurance In Your Financial Planning

मुंबई23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आपको चाहिए कि आप हेल्थ और जीवन दोनों का बीमा लें और आनेवाले किसी भारी -भरकम खर्च से बच सकें

  • भविष्य में खर्च की कोई सीमा नहीं होती है। यह कभी भी आपकी जिंदगी पर भारी पड़ सकता है
  • वर्तमान में फिट होना महत्वपूर्ण है। कोरोना धूम्रपान करने वालों पर बुरा प्रभाव डाल सकता है

किसी भी वित्तीय योजना में बीमा हमेशा से ही एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। हालांकि मौजूदा वैश्विक महामारी में बीमा का महत्व और भी बढ़ गया है। ऐसे में आपको चाहिए कि आप हेल्थ और जीवन दोनों का बीमा लें और आनेवाले किसी भारी -भरकम खर्च से बच सकें। ऐसा इसलिए क्योंकि भविष्य में खर्च की कोई सीमा नहीं होती है। यह कभी भी आपकी जिंदगी पर भारी पड़ सकता है।

बीमा के कुछ महत्वपूर्ण फायदे

1. सुरक्षा: जीवन बीमा से वित्तीय अस्थिरता के खिलाफ अपने परिवार की रक्षा कर सकते हैं। जीवन बीमा जिंदगी के साथ भी जिंदगी के बाद भी काम करता है।

2. वित्तीय सुरक्षा: यह बीमारी या असामयिक निधन जैसी घटनाओं के समय में एक आधार के रूप में कार्य करता है।

3. कवर: बीमा का उपयोग लोन लेने, लोन का बकाया चुकाने के लिए किया जा सकता है।

4. टैक्स बेनेफिट: आप आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80 सी के तहत सालाना 1.5 लाख रुपए तक का दावा कर सकते हैं। इसके अलावा मृत्यु या मैच्योरिटी लाभ भी धारा 10 (10डी) के तहत टैक्स फ्री है।

महामारी के दौरान जीवन बीमा का महत्व

महामारी न केवल इमर्जेंसी है, बल्कि आर्थिक रूप से यह समय काफी चुनौतीपूर्ण भी होता है। कोरोना का हर किसी पर अलग प्रभाव पड़ सकता है, पर यह भी सच है कि इलाज की लागत ज्यादातर रोगियों के लिए दिक्कत पैदा करती है। एक व्यक्ति जो 14 दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती है, उसे बिना वेंटिलेटर के 2 लाख रुपए तक का भुगतान करना पड़ सकता है। वेंटिलेटर पर मरीजों के लिए लागत काफी अधिक है।

ये लागत अनुमानित आंकड़े हैं जो निजी और सार्वजनिक अस्पतालों के लिए अलग होते हैं। खर्च के ये आंकड़े बीमारी से उत्पन्न होने वाले खर्चों के बारे में एक आइडिया प्रदान करते हैं। इसलिए, ऐसे समय में बीमा खरीदना महत्वपूर्ण है।

मुश्किल वक़्त में पर्याप्त बीमा मदद कैसे करता है?

1. कोरोना के कारण अगर परिवार में कोई एकमात्र कमाने वाले की मृत्यु हो जाती है तो जीवन बीमा उन्हें आवश्यक सहायता प्रदान करता है।

2. आपकी अनुपस्थिति में, आपके बच्चे अपने जीवन को जारी रख सकते हैं, उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं और शादी कर सकते हैं।

3. जीवन बीमा के साथ, आप अचानक आ पड़े आर्थिक झटकों से उबरकर समय के साथ चल सकते हैं।

ऑनलाइन बीमा खरीदना

आप एक बटन के क्लिक के साथ एक अच्छी सी बीमा योजना खरीद सकते हैं। भरोसेमंद और ग्राहक केंद्रित बीमाकर्ता आपको परेशानी मुक्त प्रक्रिया प्रदान कर हर कदम में मदद और मार्गदर्शन कर सकते हैं जो आपको जीवन को सुरक्षित करता है। आप बीमा कंपनियों से बात करेंगे तो आपको ढेर सारे प्लान मिलेंगे। आप निम्नलिखित तरीके से अपने लिए एक बेहतरीन बीमा प्लान ले सकते हैं।

तीन प्लान्स:

1. लाइफ प्रोटेक्ट: यह योजना बीमारी के मामले में लाइफ कवर और 100 प्रतिशत भुगतान प्रदान करती है। आप जीवन के विभिन्न आयु में कवर भी बढ़ा सकते हैं।

2. प्रोटेक्ट प्लस: प्रीमियम में कोई अंतर नहीं होने से लाइफ कवर सालाना 5% बढ़ जाता है। आपको बीमारियों पर 100% भुगतान भी मिलता है।

3. दोहरी सुरक्षा: यह प्लान योजना एक लाइफ कवर, मैच्योरिटी तक 60 की उम्र से नियमित मासिक आय, और बीमारी पर 100% भुगतान प्रदान करती है।

प्रमुख लाभ:

• 100 साल की उम्र तक लाइफ कवर पाएं।

• 80 साल की उम्र तक 36 गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए एकमुश्त भुगतान

• धूम्रपान छोड़ने का एक अनूठा लाभ और अतिरिक्त लाभ भी है। वर्तमान में एक स्वस्थ और फिट शरीर का होना महत्वपूर्ण है। कोरोनावायरस धूम्रपान करने वालों पर हानिकारक प्रभाव डाल सकता है। यह इस तरह की सुविधाओं का लाभ उठाने, धूम्रपान छोड़ने और अंततः दूसरे वर्ष से कम प्रीमियम पर कवर का आनंद लेने का एक अच्छा अवसर हो सकता है।

भारत में बीमा के आंकड़ों पर एक नजर

आईआरडीएआई द्वारा जारी हैंडबुक ऑफ इंडियन इंश्योरेंस एंड स्टैटिस्टिक्स (2016-17) के मुताबिक, 2017 में भारत में सिर्फ 32.8 करोड़ भारतीयों का लाइफ इंश्योरेंस हुआ था। यह संख्या बड़ी लग सकती है, पर यह उतना बड़ा नहीं है जितना कि दिखता है। उपरोक्त आंकड़े में एक पालिसी के पीछे एक नागरिक माना जा सकता है। परंतु हालात बिल्कुल वैसे नहीं है क्योंकि एक व्यक्ति कई जीवन बीमा पॉलिसियां ले सकता है।

अतः जीवन बीमा के तहत कवर नहीं किए गए व्यक्तियों की संख्या हमारे देश में बहुत अधिक है।

भारत में प्रोटेक्शन मार्जिन 92.2 प्रतिशत है

एशिया में भारत में सबसे अधिक ‘प्रोटेक्शन मार्जिन’ है। भारत का प्रोटेक्शन मार्जिन 92.2% है। इसका मतलब है कि यदि किसी परिवार को आय-हानि के मामले में सुरक्षा के लिए 100 रुपए की आवश्यकता है, तो उनके पास इसे कवर करने के लिए केवल 7.8 रुपए है, जिससे 92.2 रुपए का अंतर होता है।

0

Source link

Categories: Business

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *