Trending News

दिल्ली में कोरोना: आज आ सकते हैं 25 हजार मामले, जैन बोले- दो-तीन दिन में केस घटे तो पाबंदियों में मिलेगी ढील

Other

जब जैन से पूछा गया कि क्या वर्तमान लहर की पीक दिल्ली में आ चुकी है तो वह बोले कि ऐसा लगता है कि दिल्ली में कोरोना के मामलों में स्थिरता आ गई है और जल्द ही इसमें गिरावट भी देखने को मिलेगी।

दिल्ली में कोरोना की वर्तमान स्थिति को लेकर बुधवार सुबह स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने पत्रकारों से बात की और बताया कि राजधानी में जल्द ही कोरोना के संक्रमण में कमी आएगी। इसके साथ ही जैन ने कहा कि आज दिल्ली में 25000 नए मामले आ सकते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि, अगर दो-तीन दिनों में कोरोना के नए मामलों में कमी आएगी तो जो पाबंदियां लगाई गई हैं, उनमें भी ढील दी जाएगी। उन्होंने बताया कि, दिल्ली में आज लगभग 25000 केस आएंगे।

सत्येंद्र जैन ने कहा कि मुंबई में संक्रमण में कमी आनी शुरू हो गई है, हम जल्द ही यह ट्रेंड दिल्ली में भी देखेंगे। जब जैन से पूछा गया कि क्या वर्तमान लहर की पीक दिल्ली में आ चुकी है तो वह बोले कि ऐसा लगता है कि दिल्ली में कोरोना के मामलों में स्थिरता आ गई है और जल्द ही इसमें गिरावट भी देखने को मिलेगी।

कोविड की संक्रमण दर देखकर ये नहीं कहा जा सकता कि पीक आया है कि नहीं। अस्पतालों में भर्ती होने की दर भी स्थिर हो गई है और केस भी लगभग एकरूप बने हुए हैं।

www.newsreportinglive.com/

मौसम का हाल: दिल्ली में कड़ाके की ठंड, कोहरे की चादर में लिपटी राष्ट्रीय राजधानी

दिल्ली में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। राष्ट्रीय राजधानी में आज सुबह कोहरा छाया रहा। 

दिल्ली: मास्क नहीं पहनने पर 4400 लोगों के कटे चालान, पैसा और जान बचानी है तो मत करें ऐसा काम

शहर के बाजारों में भीड़भाड़ की खबरों के मद्देनजर यह कदम उठाया गया। पुलिस अधिकारियों और क्षेत्र के पदाधिकारियों को डीडीएमए के आदेश का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं।

संक्रमण को हराने के लिए कोरोना प्रोटोकॉल को सख्ती से अमल में लाया जा रहा है। प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है। दिल्ली सरकार ने सोमवार को मास्क नहीं पहनने के लिए 4,434 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है। यह कार्रवाई 11 जिलों में मास्क के उल्लंघन को लेकर की गई। इसके साथ ही सामाजिक दूरी के उल्लंघन पर 107, सार्वजनिक स्थानों पर थूकने के लिए 17 और शराब, पान,गुटखा और तंबाकू आदि के सेवन के लिए दो लोगों के चालान किए गए।

https://www.amarujala.com/delhi/new-delhi/new-delhi1641905070?src=story-related-auto

फ्लाइंग स्क्वॉड का गठन
मास्क के सबसे अधिक उल्लंघन के मामले दक्षिण पूर्व जिले में 780, पूर्व में 730, उत्तर में 583 और दक्षिण पश्चिम में 559 दर्ज किए गए। सबसे कम नई दिल्ली जिले में 156 चालान किए गए। राजस्व विभाग की टीमों ने रेस्तरां, होटल, बाजारों और ऐसे अन्य स्थानों पर बड़ी सभाओं और सामाजिक-दूरियों के मानदंडों के उल्लंघन के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए फ्लाइंग स्क्वॉड का गठन किया है।

उपराज्यपाल अनिल बैजल ने पुलिस आयुक्त और संभागीय आयुक्त (राजस्व) को दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के नवीनतम दिशानिर्देशों के अनुरूप कोविड-उपयुक्त व्यवहार का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था।

सेक्टर 10 स्थित सरकारी अस्पताल में हड़ताल का समर्थन नहीं करने पर सिविल सर्जन से बहस करते सरकारी अस्पताल के डॉक्टर

सेक्टर 10 स्थित सरकारी अस्पताल में हड़ताल का समर्थन नहीं करने पर सिविल सर्जन से बहस करते सरकारी अस्पताल के डॉक्टर

दिल्ली में नहीं लगाएंगे लॉकडाउनः मुख्यमंत्री

दिल्ली में नहीं लगाएंगे लॉकडाउनः मुख्यमंत्री-मुख्यमंत्री अरविंद केजरवील ने स्वास्थ्यमंत्री सत्येंद्र जैन के लोकनायक अस्पताल पहुंच कोरोना की तैयारियों का लिया जायजा -एलएनजेपी में भर्ती 136 कोरोना मरीजों में से सिर्फ छह लोग कोरोना के इलाज के लिए पहुंचे -मुख्यमंत्री ने दिया आश्वासन जितना जल्दी हो सकेगा उतना जल्दी प्रतिबंधों को हटा दिया जाएगा अमर उजाला ब्यूरो नई दिल्ली, 11 जनवरी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के लोगों को आश्वासन दिया है कि राजधानी में लॉकडाउन नहीं लगेगा।

बल्कि, सरकार जितना जल्दी हो सकेगा उतना जल्दी प्रतिबंधों को हटा देगी। साथ ही कम से कम प्रतिबंध लगाने की कोशिश करेगी। वह मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के साथ लोकनायक अस्पताल कोरोना संबंधित तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे। केजरीवाल ने कहा कि सरकार कोरोना की हर परिस्थिति से लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है। अगर जरूरत पड़ेगी तो 37 हजार बेड तक तैयार कर 10 से 11 हजार आईसीयू बेड तैयार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अच्छी बात है|

जो कि जांच में कोरोना संक्रमित मिले। वहीं, अप्रैल में आई लहर में अधिकतर लोग कोरोना का ही इलाज कराने के लिए आ रहे थे।बकौल केजरीवाल, एलएनजेपी अस्पताल से अब तक 22 हजार कोरोना मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। यह दिल्ली में शायद अकेला अस्पताल है, जिसने किसी भी महिला को गर्भावस्था में इलाज के लिए मना नहीं किया। यहां पर अब तक करीब 700 डिलीवरी सफलतापूर्वक कराई जा चुकी है।

एलएनजेपी अस्पताल में गायनी का भी पूरा इंतजाम है और कोरोना संक्रमित गर्भवती माता का भी यहां पर पूरा इलाज है। नई लहर को लेकर केजरीवाल ने कहा कि पिछली लहर के मुकाबले में यह लहर बहुत ही हल्की है। अप्रैल में जो लहर आई थी, वह बहुत ज्यादा खतरनाक थी। लोगों की ऑक्सीजन नीचे जा रही थी और लोगों को तरह-तरह की तकलीफें हो रही थीं। ऐसे लोगों की संख्या इस बार बहुत ज्यादा कम है। नई लहर में हो रही मौतों पर केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कुल दो-ढाई हजार मरीज अस्पताल में भर्ती हैं।

कोरोना के केस ज्यादा आ रहे हैं, लेकिन अस्पतालों के अंदर मरीज कम भर्ती हो रहे हैं। अस्पताल के तौर पर हम पूरी तरह से तैयार हैं। इस बार मौत भी बहुत कम है। अगर जरूरत पड़ेगी तो हमारी तैयारी 37 हजार बेड तैयार करने की है। सरकार ने अभी तक अपनी पूरी क्षमता का इस्तेमाल नहीं की है, लेकिन अगर जरूरत पड़ेगी तो सरकार 37 हजार बेड तक तैयार करके 10 से 11 हजार आईसीयू बेड तैयार कर सकती है। हालांकि, अभी उतनी जरूरत नहीं पड़ रही है।

एक तरफ लोगों के रोजगार पर बनी हुई है। अगर प्रतिबंध लगा देते हैं तो लोगों के रोजगार पर बन आती है और दूसरी तरफ अगर प्रतिबंध न लगाएं तो लोगों की जिंदगी और सेहत खतरे में पड़ जाती है। उन्होंने आश्वासन देते हुए कहा कि लगाए गए प्रतिबंधों को जितना जल्दी हो सकेगा उतना जल्दी हटा देंगे और कम से कम समय में कम से कम प्रतिबंध लगाने की कोशिश करेंगे।

उन्होंने कहा कि डीडीएमए की बैठक में आए केंद्र सरकार के प्रतिनिधि से अनुरोध किया है कि केवल दिल्ली के अंदर प्रतिबंध लगाने से काम नहीं चलेगा, बल्कि पूरे एनसीआर को कवर करना पड़ेगा। अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि पूरे एनसीआर के अंदर प्रतिबंध को लागू किया जाएगा।

वहीं, तीसरी लहर में दिसंबर से अब तक 710 कोरोना के मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। कोरोना काल के दौरान अब तक एलएनजेपी अस्पताल से करीब 22 हजार कोरोना मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। इसके अलावा 700 कोरोना संक्रमित माताओं की डिलीवरी भी कराई गई है। इसमें 415 माताओं की सामान्य और 285 माताओं की सीजेरियन डिलीवरी हुई है।

बेड, दवाइयां और ऑक्सीजन के स्तर पर व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं। अच्छी बात है कि इस लहर में अस्पतालों में आने वाले कोरोना मरीज बेहद कम हैं, लेकिन फिर भी संक्रमण से बचें, अपना ध्यान रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

Other

कंगना रनौत ने जावेद अख्तर द्वारा मानहानि मामले को स्थानांतरित करने की याचिका खारिज करने के अदालत के आदेश को चुनौती दी

ड अभिनेत्री कंगना रनौत ने अदालत के उस आदेश को चुनौती दी, जिसमें जावेद अख्तर के मानहानि मामले को स्थानांतरित करने की याचिका को

Other

अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर बढ़ाई सतर्कता, चलाया चेकिग अभियान

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : गणतंत्र दिवस को लेकर आरपीएफ एवं जीआरपी ने रविवार माकड्रिल के साथ स्टेशन सर्कुलेटिग एरिया में सघन चेकिग अभियान चलाया। दोपहर

Other

डीएलएड प्रशिक्षुओं ने रिजल्ट के लिए चलाया ट्विटर कैंपेन, कहा- शिक्षा विभाग के आदेश को बिहार बोर्ड कर रहा अवहेलना

बिहार के डीएलएड सत्र 2020-22 एवं 2019-21 के क्रमशः प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष के प्रशिक्षुओं ने रविवार को एक बार फिर सोशल मीडिया पर

Other

जय हिंद यूथ फाउंडेशन के द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर सभा का आयोजन

 जय हिंद यूथ फाउंडेशन के द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर सभा का आयोजन बिथान प्रखंड के उजान पंचायत में किया गया। जिसमें