Apple could bundle its Music, Arcade, and TV Plus subscriptions into Apple One | एपल क्लाउड सर्विस के लिए ‘एपल वन’ सब्सक्रिप्शन की* कर सकती है घोषणा; इसमें म्यूजिक, आर्केड और टीवी प्लस सब मिलेगा

Published by Razak Mohammad on

  • Hindi News
  • Tech auto
  • Apple Could Bundle Its Music, Arcade, And TV Plus Subscriptions Into Apple One

नई दिल्ली5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

यदि कोई यूजर एपल वन का सब्सक्रिप्शन लेता है, तब एपल म्यूजिक साथ उसका सब्सक्रिप्शन ओवरलैप नहीं होगा

  • इन सर्विस से कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2019 में 46.3 बिलियन डॉलर का रेवेन्यू जनेरट किया था
  • यूजर को बार-बार किसी सर्विस का सब्सक्रिप्शन लेने की जरूरत नहीं होगी

एपल के 15 सितंबर को होने वाले इवेंट को लेकर अब खबरें आना शुरू हो गई हैं। ऐसा माना जा रहा है कि कंपनी अपनी क्वाउड बेस्ड सर्विस जैसे म्यूजिक, आर्केड, न्यूज प्लस और एपल टीवी प्लस सर्विस के लिए एक बंडल सब्सक्रिप्शन की घोषणा कर सकती है। इन सभी सर्विस से कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2019 में 46.3 बिलियन डॉलर (3.40 लाख करोड़ रुपए) का रेवेन्यू जनेरट किया था।

ऐसा माना जा रहा है कि एपल की इस बंडल सर्विस का नाम एपल वन हो सकता है। इस एक सर्विस में कंपनी तमाम तरह की सर्विसेज देगी। यानी यूजर को बार-बार किसी सर्विस का सब्सक्रिप्शन लेने की जरूरत नहीं होगी।

सिंगल रिचार्ज पर मिलेंगे बेनिफिट
यदि कोई यूजर एपल वन का सब्सक्रिप्शन लेता है, तब एपल म्यूजिक साथ उसका सब्सक्रिप्शन ओवरलैप नहीं होगा। यानी यूजर को एपल म्यूजिक के लिए अलग से पेमेंट नहीं करना होगा। हालांकि, ऐसा माना जा रहा है कि एपल वन का सब्सक्रिप्शन सिर्फ आईओएस डिवाइसेज पर ही मिलेगा। यानी एंड्रॉयड यूजर्स इस सिंगल सर्विस का फायदा नहीं ले पाएंगे। अभी एपल म्यूजिक एक मात्र एंड्रॉयड पर चलने वाली सर्विस है।

एपल का सबसे सस्ता बंडल 49 रुपए में
एपल की सर्विस के सबसे सस्ते सब्सक्रिप्शन एपल म्यूजिक और एपल टीवी के लिए 5 डॉलर (करीब 370 रुपए) और 9 डॉलर (करीब 660 रुपए) के होंगे। ऐसा नहीं है कि बंडल पहले से उपलब्ध नहीं है। टीवी और म्यूजिक प्लस के लिए एपल बंडल की यूएस में कीमत 5 डॉलर और भारत में 49 रुपए है। हालांकि, ये डिस्काउंटेड सब्सक्रिप्शन अभी स्टूडेंट्स के लिए है।

एपल ने बदली स्टोर की रणनीति
एपल अपने ऐप स्टोर के माध्यम से रूट किए जाने वाले सभी खरीदे गए ऐप्स पर 30 प्रतिशत की कटौती कर रहा है। कंपनी ने अपनी इस रणनीति में बदलाव फोर्टनाइट के साथ हुए विवाद के बाद किया। दरअसल, एपल अपने ऐप स्टोर से इस गेम की खरीदारी पर 30 फीसदी रेवेन्यू कमाती है। जब गेम के डेवलपर्स ने फोर्टनाइट के फ्री और पेड दोनों वर्जन को अपडेट किया था, जिसके बाद इसमें यूजर्स को डायरेक्ट पेमेंट का ऑप्शन मिलने लगा था।

0

Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *