Trending News

अहमदाबाद से दिल्ली तक सांसों का सफर, उत्तर भारत में पहली बार मरीज के दोनों फेफड़ों का ट्रांसप्लांट

Other

मैक्स अस्पताल के डॉक्टरों ने एक मरीज को जीवनदान देने का काम किया है. इसके लिए दिल्ली से लेकर अहमदाबाद तक ग्रीन कॉरीडोर बनाया गया और तब जाकर मरीज के दोनों फेफड़ों का सफल ट्रांसप्लांट मुमकिन हो सका है. 

नई दिल्ली: डॉक्टर मरीज की आखिरी सांस तक उसे बचाने की पूरी कोशिश करते हैं और यही वजह है कि उन्हें भगवान का दर्जा दिया जाता है. हम आज आपको सांसों के ऐसे सफर के बार में बताएंगे जिसमें डॉक्टरों और प्रशासन ने मिलकर एक शख्स को जीवनदान देने का काम किया है. 

मरीज के दोनों फेफड़ों का ट्रांसप्लांट

दिल्ली के अस्पताल में पल-पल के लिए सांसों को मोहताज एक शख्स को जीवन देने के लिए अहमदाबाद से मदद मिली. उत्तर भारत में पहली बार किसी अस्पताल ने खास मशीनों की मदद से एक व्यक्ति में दोनों फेफड़ों का सफल ट्रांसप्लांट किया है.  

गुजरात के अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में 44 साल के एक व्यक्ति ने ब्रेन हैमरेज से दम तोड़ दिया. लेकिन वो दिल्ली में भर्ती किसी दूसरे बीमार को जिंदगी दे गया. इस काम को अंजाम देने में डॉक्टरों की मेहनत तो है ही लेकिन अहमदाबाद प्रशासन, सिविल अस्पताल के डॉक्टर, अहमदाबाद और दिल्ली एयरपोर्ट के बीच का तालमेल और एंबुलेंस के ड्राइवरों की तेजी और सूझबूझ बहुत काम आई. 

दिल्ली से अहमदाबाद तक ग्रीन कॉरीडोर

55 साल के ज्ञानचंद मेरठ के रहने वाले हैं. इन्हें COPD यानी सांस न आने की बीमारी थी. पिछले साल कोरोना की वजह से इनके दोनों फेफड़े बेकार हो गए. तब से ये हर वक्त ऑक्सीजन सपोर्ट या बाईपैप की मदद से ही सांस ले पा रहे थे. 22 दिसंबर को अंगदान की नेशनल रजिस्ट्री सिस्टम पर जैसे ही अहमदाबाद से एक व्यक्ति की असमय मौत की वजह से उसके फेफड़ों के दान होने का अलर्ट आया, दिल्ली से मैक्स अस्पताल के डॉक्टरों ने अहमदाबाद के सरकारी अस्पताल में संपर्क किया. 

by TaboolaSponsored LinksYou May LikeThe best tech for all you doDellMudra Loan Finance OnlineBajaj Capital Finaceऔर जानें

बीती 22 दिसंबर को ही तीन घंटे में अहमदाबाद और दिल्ली में ग्रीन कॉरीडोर बनाकर ऑर्गन अस्पताल तक पहुंचाए गए. ऑपरेशन के बाद 10 दिन तक मरीज को ECMO यानी Extracorporeal Membrane Oxygenation की मदद पर रखा गया. ये मशीन Artificial Lungs की तरह काम करती है.  कई दिनों के फॉलोअप के बाद ज्ञानचंद अब एकदम ठीक हैं और खतरे से बाहर हैं. 

https://zeenews.india.com/hindi/india/video/badhir-news-delhi-blast-conspiracy-failed-bomb-squad-got-ied/1070762/embed

ये भी पढ़ें: कोरोना के इलाज में कौन सी दवा सबसे कारगर? WHO ने बताईं ये दो नई दवाएं

मरीज की हालत के बारे में मैक्स अस्पताल दिल्ली के श्वास रोग विशेषज्ञ डॉ विवेक नांगिया ने बताया कि हमारे पास यह मरीज फेफड़ों से जुड़ी एक ऐसी बीमारी के बाद आया था जिसमें सांस लेने में काफी मुश्किल हो रही थी. एक साल तक मरीज को ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया लेकिन तब भी हालत में सुधार नहीं हो पा रहा था. डॉक्टर ने बताया कि इस बीमारी में कोई अन्य इलाज मुमकिन नहीं था. सभी कोशिशों के बाद हमने फिर दोनों फेफड़ों का ट्रांसप्लांट करने का फैसला किया.

link

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Posts

Other

कंगना रनौत ने जावेद अख्तर द्वारा मानहानि मामले को स्थानांतरित करने की याचिका खारिज करने के अदालत के आदेश को चुनौती दी

ड अभिनेत्री कंगना रनौत ने अदालत के उस आदेश को चुनौती दी, जिसमें जावेद अख्तर के मानहानि मामले को स्थानांतरित करने की याचिका को

Other

अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर बढ़ाई सतर्कता, चलाया चेकिग अभियान

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : गणतंत्र दिवस को लेकर आरपीएफ एवं जीआरपी ने रविवार माकड्रिल के साथ स्टेशन सर्कुलेटिग एरिया में सघन चेकिग अभियान चलाया। दोपहर

Other

डीएलएड प्रशिक्षुओं ने रिजल्ट के लिए चलाया ट्विटर कैंपेन, कहा- शिक्षा विभाग के आदेश को बिहार बोर्ड कर रहा अवहेलना

बिहार के डीएलएड सत्र 2020-22 एवं 2019-21 के क्रमशः प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष के प्रशिक्षुओं ने रविवार को एक बार फिर सोशल मीडिया पर

Other

जय हिंद यूथ फाउंडेशन के द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर सभा का आयोजन

 जय हिंद यूथ फाउंडेशन के द्वारा नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर सभा का आयोजन बिथान प्रखंड के उजान पंचायत में किया गया। जिसमें