सूखे गेहूं की फसल को 15 करोड़ का नुकसान

Una News


ऊना जिले में खराब मौसम के बीच गेहूं फसल पक गई है। ऐसे में किसान चिंता में डूब गए हैं। फोटो- सोहन चौध?
– फोटो: ऊना

ख़बर सुनना

ऊना। जिले में सूखे के कारण गेहूं की फसल को 15 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है। यह नुकसान ज्यादातर गैर कानूनी क्षेत्रों के किसानों को हुआ है। इससे इन क्षेत्रों के किसानों को वर्षभर के दो वक्त के खाने की चिंता सताने लगी है। सूखे के कारण 5500 हेक्टेयर भूमि में गेहूं की फसल को 33 प्रतिशत से अधिक सूखे की मार पड़ी है। इसके चलते भागों में गेहूं के पौधे उगते हैं, लेकिन पौधों के पानी की कमी के कारण खेतों में ही सूख गए हैं। इसके साथ हल्की फसल होने के कारण पशु चारे में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है।
वर्तमान समय में जिले में 35739 हेक्टेयर भूमि में गेहूं की पैदावार होती है। इससे करीब 30 हजार टन टन गेहूं की पैदावार होती है, लेकिन इस साल गेहूं की पैदावार में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। जिले में 22539 हेक्टेयर भूमि गैर कानूनी क्षेत्र है, जहां पर पानी की सुविधा शून्य है। इसके साथ 14200 हेक्टेयर भूमि में ही सिंचाई सुविधा प्रदान की गई है। इससे सूखे की मार मैदान इलाके से ज्यादा गैरकानूनी क्षेत्र में हुआ।
बॉक्स
सूखे के कारण हुआ है गेहूं को नुकसान: डोगरा
कृषि उपनिदेशक डॉ। अतुल डोगरा ने कहा कि जिला में गैर कानूनी विचार क्षेत्रों में सूखे के कारण गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचा है। सूखे की मार से मैदान क्षेत्र के किसानों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा है, लेकिन जहां तक ​​पेयजल सुविधा है, उन क्षेत्रों में गेहूं को सूखे से सफलतापूर्वक चला गया है।

ऊना। जिले में सूखे के कारण गेहूं की फसल को 15 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है। यह नुकसान ज्यादातर गैर कानूनी क्षेत्रों के किसानों को हुआ है। इससे इन क्षेत्रों के किसानों को वर्षभर के दो वक्त के खाने की चिंता सताने लगी है। सूखे के कारण 5500 हेक्टेयर भूमि में गेहूं की फसल को 33 प्रतिशत से अधिक सूखे की मार पड़ी है। इसके चलते भागों में गेहूं के पौधे उगते हैं, लेकिन पौधों के पानी की कमी के कारण खेतों में ही सूख गए हैं। इसके साथ हल्की फसल होने के कारण पशु चारे में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है।

वर्तमान समय में जिले में 35739 हेक्टेयर भूमि में गेहूं की पैदावार होती है। इससे करीब 30 हजार टन टन गेहूं की पैदावार होती है, लेकिन इस साल गेहूं की पैदावार में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। जिले में 22539 हेक्टेयर भूमि गैर कानूनी क्षेत्र है, जहां पर पानी की सुविधा शून्य है। इसके साथ 14200 हेक्टेयर भूमि में ही सिंचाई सुविधा प्रदान की गई है। इससे सूखे की मार मैदान इलाके से ज्यादा गैरकानूनी क्षेत्र में हुआ।

बॉक्स

सूखे के कारण हुआ है गेहूं को नुकसान: डोगरा

कृषि उपनिदेशक डॉ। अतुल डोगरा ने कहा कि जिला में गैर कानूनी विचार क्षेत्रों में सूखे के कारण गेहूं की फसल को नुकसान पहुंचा है। सूखे की मार से मैदान क्षेत्र के किसानों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा है, लेकिन जहां तक ​​पेयजल सुविधा है, उन क्षेत्रों में गेहूं को सूखे से सफलतापूर्वक चला गया है।





Source link

उना न्यूज ऊना की पाठशाला ऊना न्यूज़ टुडे ऊना समाचार ऊना समाचार हिंदी में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Una News

पटवार और कानूनगो भवन में कंप्यूटर सुविधा और फर्नीचर देने की मांग

बचत भवन ऊना में संयुक्त पटवार और कानूनगो महासंघ की बैठक में उपायुक्त राघव शर्मा।
– फोटो: ऊना

ख़बर सुनना

ख़बर सुनना

ऊना। संयुक्त