‘सिलेक्शन नहीं हुआ तो मेहनत बेकार जाएगी’ इस डर से मदुरै की एक छात्रा ने परीक्षा से एक दिन पहले की खुदकुशी, ट्विटर पर परीक्षा बैन करने की मांग कर रहे स्टूडेंट्स

Published by Razak Mohammad on

  • Hindi News
  • Career
  • NEET UG 2020| A Students In Madurai Commits Suicide Due To The Fear Of The Selection In The Examination, Students Appeal To Ban NEET By #banNEET

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

देशभर में कल यानी रविवार, 13 सितंबर को NEET 2020 का आयोजन किया जाना है। लेकिन परीक्षा से एक पहले भी इसको लेकर लगातार विरोध किया जा रहा है। आज सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर #BanNEET दूसरे नंबर ट्रेंड कर रहा है। दरअसल, नीट की तैयारी कर रही तमिलनाडु के मदुरै की रहने वाली एक छात्रा के आत्महत्या करने के बाद यह ट्रेंड चलाया जा रहा है। छात्रा ने अपने लंबे सुसाइड नोट में नीट की परीक्षा में फेल होने और सिलेक्शन न मिलने के डर के बारे में लिखा। सोशल मीडिया पर इस नोट के वायरल होने के बाद से देश भर से नीट को बैन करने के लिए ट्वीट्स हो रहे हैं।

क्या है पूरा मामला

तमिलनाडु के मदुरै के रहने वाले सब इंस्पेक्टर मुरुगा सुंदरम की बेटी ज्योति का 13 सिंतबर को नीट का एंट्रेंस था। वह पिछले साल नीट की परीक्षा पास नहीं कर पाई थी। शुक्रवार की रात उसने अपने पिता से इस बार के एंट्रेंस को लेकर बातचीत भी की थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, ज्योति को परीक्षा की तैयारी के लिए देर रात तक पढ़ने की आदत थी। 11 सितंबर शुक्रवार की रात भी घर वालों को लगा की वह पढ़ ही रही है, लेकिन ज्योति ने सुसाइड कर लिया था।

ज्योति ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि, उसके परिवार को उससे बहुत उम्मीदें हैं और “अगर मुझे कॉलेज में सीट नहीं मिली तो मेरी सारी मेहनत बेकार चली जाएगी”। ज्योति ने नोट में अपने परिवार को दोष न देने की बात भी लिखी है। उसने यह भी लिखा है कि वह एंट्रेंस में फेल होने की डर से बाहर निकलने का सबसे सही तरीका चुन रही है।

ट्विटर पर शुरू परीक्षा बैन करने की मुहिम

मामला सामने आते ही ट्विटर पर नीट की परीक्षा को बैन करने की मांग के साथ लोग लगातार ट्वीट कर रहे हैं। एक शख्स ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘मुझे इसका बहुत दु:ख है. माफ करना बहन! हम तुम्हें नहीं बचा पाए।’वहीं, एक ने लिखा,‘एक दिन में 97 हज़ार से अधिक केस आ रहे हैं इसके बाद भी आप 15 लाख प्रतिभागियों और उनके परिजनों को बाहर आने के बारे में सोच भी कैसे सकते हैं? हमारी जान को जोखिम में मत डालिए।’

0

Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *