समुद्र में चीन की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए भारतीय नौसेना ने बढ़ाई निगरानी

Published by Razak Mohammad on


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Mon, 29 Jun 2020 07:15 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

गलवां घाटी में चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर में अपनी निगरानी बढ़ा दी है। भारतीय नौसेना तेजी से विकसित हो रहे क्षेत्रीय सुरक्षा के मद्देनजर अमेरिकी नौसेना और जापान मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स जैसी विभिन्न अनुकूल नौसेना बलों के साथ अपने परिचालन सहयोग को बढ़ा रही है।

शनिवार को भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर क्षेत्र में जापानी नौसेना के साथ एक महत्वपूर्ण युद्धाभ्यास किया था। यह एक ऐसा क्षेत्र था, जहां चीनी नौसेना के जहाज और पनडुब्बियां लगातार दिखती रहती हैं। जापान के साथ अभ्यास में चार युद्धपोत शामिल थे। जिसमें दो भारत के और दो युद्धपोत जापान के थे।

भारतीय नौसेना के प्रशिक्षण पोत- आईएनएस राणा और आईएनएस कुलुश और जापानी नौसेना के जेएस काशिमा और जेएस शिमायुकी ने इस अभ्यास में भाग लिया था। यह अभ्यास इसलिए भी महत्वपूर्ण था, क्योंकि पूर्वी लद्दाख में सीमा को लेकर भारत के साथ उलझा चीन दक्षिण चीन सागर के साथ-साथ इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में भी आक्रमक रुख अपने की कोशिश में है।

संसाधन संपन्न क्षेत्रों चीन के बढ़ते प्रयासों के मद्देनजर अमेरिका, भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और फ्रांस की नौसेनाएं भारत-प्रशांत महासागर क्षेत्र में अपने सैन्य सहयोग को गहरा कर रही हैं। भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में सेना के 20 जवानों के शहीद होने के बाद भारत सरकार ने तीनों सेनाओं को अलर्ट पर रखा है।

भारतीय नौसना को हिंद महासागर के उन क्षेत्रों में अपनी निगरानी को बढ़ाने के लिए कहा गया है, जिस ओर चीनी नौसेना की गतिविधियां लगातार हो रही हैं। सेना की गतिविधियों पर जानकारी रखने वाले विशेषज्ञों ने इस बारे में बताया कि नौसना को अपनी गश्त के दौरान और चौकन्ना रहने को कहा गया है।

गलवां घाटी में चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर में अपनी निगरानी बढ़ा दी है। भारतीय नौसेना तेजी से विकसित हो रहे क्षेत्रीय सुरक्षा के मद्देनजर अमेरिकी नौसेना और जापान मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स जैसी विभिन्न अनुकूल नौसेना बलों के साथ अपने परिचालन सहयोग को बढ़ा रही है।

शनिवार को भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर क्षेत्र में जापानी नौसेना के साथ एक महत्वपूर्ण युद्धाभ्यास किया था। यह एक ऐसा क्षेत्र था, जहां चीनी नौसेना के जहाज और पनडुब्बियां लगातार दिखती रहती हैं। जापान के साथ अभ्यास में चार युद्धपोत शामिल थे। जिसमें दो भारत के और दो युद्धपोत जापान के थे।

भारतीय नौसेना के प्रशिक्षण पोत- आईएनएस राणा और आईएनएस कुलुश और जापानी नौसेना के जेएस काशिमा और जेएस शिमायुकी ने इस अभ्यास में भाग लिया था। यह अभ्यास इसलिए भी महत्वपूर्ण था, क्योंकि पूर्वी लद्दाख में सीमा को लेकर भारत के साथ उलझा चीन दक्षिण चीन सागर के साथ-साथ इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में भी आक्रमक रुख अपने की कोशिश में है।

संसाधन संपन्न क्षेत्रों चीन के बढ़ते प्रयासों के मद्देनजर अमेरिका, भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और फ्रांस की नौसेनाएं भारत-प्रशांत महासागर क्षेत्र में अपने सैन्य सहयोग को गहरा कर रही हैं। भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में सेना के 20 जवानों के शहीद होने के बाद भारत सरकार ने तीनों सेनाओं को अलर्ट पर रखा है।

भारतीय नौसना को हिंद महासागर के उन क्षेत्रों में अपनी निगरानी को बढ़ाने के लिए कहा गया है, जिस ओर चीनी नौसेना की गतिविधियां लगातार हो रही हैं। सेना की गतिविधियों पर जानकारी रखने वाले विशेषज्ञों ने इस बारे में बताया कि नौसना को अपनी गश्त के दौरान और चौकन्ना रहने को कहा गया है।



Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *