संयुक्त राष्ट्र में समावेशी हिंद-प्रशांत पर बोले जयशंकर- आतंक के खिलाफ ठोस कार्रवाई होगी

India


स्वतंत्र, खुली व समावेशी हिंद-प्रशांत की भारतीय दृष्टि आसियान केंद्रीयता पर आधारित है: जयशंकर (फाइल फोटो)

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद: विदेश मंत्री एस। जयशंकर ने कहा, ‘हम समझते हैं कि संयुक्त राष्ट्र और क्षेत्रीय और उप-क्षेत्रीय संगठनों के बीच समकालीन चुनौतियों और टकरावों का सफलतापूर्वक समाधान करने का एक महत्वपूर्ण कारक होगा।’

संयुक्त राष्ट्र। भारत ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से कहा कि हिंद-प्रशांत के स्वतंत्र, मुक्त और समावेशी क्षेत्र के रूप में उसके दृष्टिकोण का आधार आसियान केंद्रीयता और समृद्धि की तलाश है। इसके साथ ही भारत ने आतंकवाद, चरमपंथ और संगठित अपराध की समकालीन सुरक्षा चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए सीमा पार समन्वय और ठोस कार्रवाई का आह्वान किया।

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, ‘हम समझते हैं कि संयुक्त राष्ट्र और क्षेत्रीय और उप-क्षेत्रीय संगठनों के बीच समकालीन चुनौतियों और टकरावों का सफलतापूर्वक समाधान करने का एक महत्वपूर्ण कारक होगा।’ उन्होंने ” संयुक्त राष्ट्र और क्षेत्रीय और उप-क्षेत्रीय संगठनों के बीच सहयोग बढ़ाने ” विषय पर खुली बहस को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 75 वर्षों के दौरान संयुक्त राष्ट्र और क्षेत्रीय और उप-क्षेत्रीय संगठनों के बीच सहयोग का तर्कसंगत मूल्यांकन किया गया है। भविष्य के संवादों के लिए एक अच्छा आधार प्रदान करेगा। ‘

भारत ने क्षेत्रीय संगठनों से घनीभूत और मैत्रीपूर्ण संबंध बनाए
जयशंकर ने कहा कि भारत ने पारंपरिक रूप से क्षेत्रीय संगठनों के साथ घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण सहयोग कायम रखा है और आसियान के साथ भारत के संबंध इसकी विदेश नीति और इसके ‘एक्ट ईस्ट’ नीति की नींव है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्र, खुला और समावेशी क्षेत्र के रूप में हिंद-प्रशांत के संबंध में भारत की दृष्टि आसियान केंद्रीयता और प्रगति और समृद्धि की आम तलाश पर आधारित है।जयशंकर ने ‘बिम्सटेक’ ढांचे के तहत क्षेत्रीय सहयोग आगे बढ़ाने और संगठन को मजबूत किया , सामान्य और अधिक प्रभावी बनाने के साथ-साथ परिणामोन्मुख बनाने के लिए भारत की अनुकूलन जतायी। जयशंकर ने कहा कि सदस्य राष्ट्रों द्वारा सामना किए जाने वाले परिवार की प्रकृति 75 साल पहले संयुक्त राष्ट्र की स्थापना के समय की तुलना में बदल गई है।

उन्होंने कहा कि समकालीन सुरक्षा कठिनाइयों क्षेत्रीय या राजनीतिक विवादों तक सीमित नहीं हैं, बल्कि ये भौतिक या राजनीतिक सीमाएं पार करती हैं। उन्होंने कहा कि आज की वैश्विक दुनिया में, आतंकवाद, चरमपंथ, मादक पदार्थों की तस्करी और संगठित अपराध एक बढ़ती हुई प्रवृत्ति है। नए अभियान के सुरक्षा निहितार्थों की अनदेखी नहीं की जा सकती है। अफ्रीका के साथ भारत के सदियों पुराने संबंधों का जिक्र करते हुए जयशंकर ने कहा, ‘हमारे अफ्रीकी संघ के साथ घनिष्ठ संबंध रहे हैं, खासकर विकास साझेदारी के लिए। ‘

(डिस्क्लेमर: यह खबर सही सिंडीकेट ट्वीट से पब्लिश हुई है। इसे News18Hindi की टीम ने साझा नहीं किया है।)








Source link

इंडो पैसिफिक एस जयशंकर प्रशांत भारत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

आपदा की स्थिति में मौसम की स्थिति में मौसम की स्थिति में अरब की अर्थव्यवस्था पर निर्भर करता है

कोरोना वारियर्स मेडिकल कर्मी की मौत पर 50 और पुलिसकर्मी की मौत पर 30 लाख करेगी सरकार स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा वारियर्स की कुबानी की कीमत अदा की जा सकती है। कोरोना की बीमारी की स्थिति में भी रोग की घोषणा की जाती है। लाख घोषणा 30 लाख की घोषणा की।

India

कोविड️️️ कोविड️ कोविड️ कोविड️ कोविड️ कोविड️️️️️

हाईकोर्ट ने बॉर्डर पर एकारेंस रोकने के फैसले पर रोक लगा दी है। (संकेत चित्र) तेलंगाना पुलिस राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में पड़ोसी आंध्रप्रदेश से आने वाले मरीजों की एकरेंस को रोक रही थी। पुलिस को अलग-अलग मरीजों को सिर्फ अस्पताल और बेड के लिए अनुमति मिल जाने के बाद ही जाने दे रही थी।

रेलवे ने “रोज नहीं चल रही 18 गाड़ियों  फेरों में की कटौती”
India

रेलवे ने “रोज नहीं चल रही अठारह गाड़ियों के फेरों में की कटौती”

रेलवे ने – कोरोना (कोरोना) संक्रमण के बढ़ते प्रकोप की वजह से ट्रेनों को रद्द करने के साथ-साथ उनके फेरो में कटौती का लगातार की

India

टीके की कमी की सूचना इस पर अमल करता है

कोविशय्लड. (फाइल फोटो) Coronavirus Vaccine: कोविशीद की डोडो के खराब होने की वजह से ऐसा किया जाता है।………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………… टीका लोगों में ।जार्ड असर को इसके लिए यूके में अप्रैल के आखिरी सप्ताह में जो प्रमाण आया उसमे तीन से चार महीने में टीका लगाने से कोविशील्ड का प्रभाव बेहतर होता है। नई दिल्ली। केंद्र सरकार

%d bloggers like this: