वैक्टिन के मामले में राष्ट्रवाद की गुंजाइश नहीं, विकसित देश प्रौद्योगिकी साझा करें: सीतारमण

India


नई दिल्ली। भारत ने सोमवार को विभाजित महामारी (कोरोनावायरस) के मौजूदा दौर के बीच टीके को लेकर राष्ट्रवाद पर वैश्विक समुदाय को आगाह किया। साथ ही विकसित देशों से टीके (कोरोना वैक्सीन) के उत्पादन के लिए आवश्यक प्रौद्योगिकी साझा करना और इससे जुड़े महत्वपूर्ण उपकरणों और कच्चे माल की बेरोक-टोक आवाजाही की अनुमति देने को कहा। एशियाई विकास बैंक (एडीबी) की सालाना बैठक को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कोविड महामारी के संदर्भ में बौद्धिक संपदा अधिकार से जुड़े व्यापार संबंधी पहलुओं (ट्रिप्स) पर गर्व करने की जरूरत पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा, ” देशों कोटेक आधारित प्रौद्योगिकी साझा करने के लिए तैयार होना होगा। महामारी के संदर्भ में ट्रिप्स समझौते पर गौर करना होगा। टीकर को लेकर कोई भी राष्ट्रवाद नहीं हो सकता है। देशों को इस मामले में लचीली रुख आपाना चाहिए। ” ट्रिप्स मेम वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूटीओ) के सदस्य देशों के बीच एक सदस्यीय समझौता है। यह सदस्य देशों द्वारा बौद्धिक संपदा के विभिन्न रूपों के विनियमन के लिए मानक स्थापित करता है जो डब्ल्यूटीओ के सदस्य देशों पर लागू होता है। जनवरी जनवरी 1995 में प्रभाव में आया विडियो कांफ्रेन्स के जरिये आयोजित कार्यक्रम में भाग लेते हुए उन्होंने कहा कि कोविड महामारी से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर सबको मिलकर काम करने की जरूरत है। वित्त मंत्री ने कहा कि कोविड टीके की उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण कच्चे माल तक पहुंच महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, ” …. देशों के लिए इस समय आवश्यक है कि वे व्यापार को खोले और कच्चे माल, महत्वपूर्ण उपकरणों और उपकरणों (दवा में उपयोग होने वाले प्रमुख रसायन) सहित आवश्यक सामान की आवाज़जही को सुगम बनाये। हमने पाया है कि टीके के उत्पादन के लिए आवश्यक कच्चे माल की आवाजाही को लेकर कुछ बाधाएं हैं। हम यह करेंगे कि इस मुद्दे का यथाशीघ्र स्नेह हो ताकि भारत उत्पादन कर सके और सक्षम हो सके। ” सीतारमण के अनुसार यह महत्वपूर्ण है कि शुरुआती माल आसानी से उपलब्ध हो और उसकी बेरोक-टोक अवाजही हो सके। उन्होंने कहा कि कोविड के उपचार के लिए दो और टीके आने वाले हैं। इसमें एक ‘नोजल स्प्रे’ (नाक में प्याज जाने वाली दवा) के रूप में है। उल्लेखनीय है कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया सहित टीका बनाने वाली भारतीय कंपनियों को पिछले महीने उत्पादन में समस्याओं का सामना करना पड़ा क्योंकि यूरोप और अमेरिका ने महत्वूपर्ण कच्चे माल के निर्यात को प्रतिबंधित कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच भारत में कोविंद से जुड़े मुद्दों पर बातचीत के बाद प्रतिबंध को हटा दिया गया। वित्त मंत्री ने कहा, ” हमने इस साल की शुरूआत में उदारता के साथ वैश्विक समुदाय की मदद के लिए हाथ बढ़ाया और हम यह देख सकते हैं कि वही उदारता के साथ दुनिया हमारी मदद के लिए आगे आ रही है। ” उन्होंने कहा विभाजित महामारी। ता दूसरी लहर के दौरान एकता दिखाने के लिए वैश्विक समुदाय को धन्यवाद दिया। सीतारमण ने भारत बॉयोटेक सहित टीका बनाने वाली दो कंपनियों की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि ये कंपनियां निश्चित रूप से सरकार के साथ मिलकर काम कर रही हैं और लाभ को अलग रख रही हैं। वित्त मंत्री ने इस मौके पर यह भी कहा कि सरकार ने महामारी के दौरान आर्थिक आंदोलनोंियों बनाये रखने के लिए विभिन्न क्षेत्रों को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई है।

उन्होंने कहा कि एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु और मझोले उद्यम) अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, सरकार ने महामारी के दौरान उनकी मदद के लिए 3 लाख रुपये की कर्ज आश्वासन के रूप में वित्तीय सहायता उपलब्ध करायी।





Source link

एडीबी एशियाई विकास बैंक कोम 19 कोरोनाइरस कोरोनावाइरस निर्मला सीतारमण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

कड़े नियम अपनाएं जाएं तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर: पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार

पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन। कोरोनावायरस थर्ड वेव: विजयराघवन ने कहा कि यदि हम मजबूत उपाय करते हैं, तो तीसरी लहर कहीं भी नहीं हो सकती है। नई दिल्ली। भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा है कि अगर कड़े नियम अपनाएं जाएं तो कोरोनावायरस की तीसरी लहर (कोरोनावायरस थर्ड वेव)

India

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की कोरोना से मौत, दिल्ली के एम्स में भर्ती थी: रिपोर्ट

कोरोनावायरस से चेतन्य छोटा राजन (फाइल फोटो) था छोटा राजन का निधन: 61 वर्षीय राजन 2015 में इंडोनेशिया के बाली से प्रत्यर्पण के बाद अपनी गिरफ्तारी के बाद से ही दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद था। तिहाड़ जेल प्रशासन ने सोमवार को दिल्ली की एक सत्र अदालत को छोटा राजन के संदिग्ध होने की

India

भारत को अगर कोरोना पर काबू पाना है तो शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञ की बात सुनें

ज़का – इस वक्त भारत को विभाजित 19 की दूसरी लहर से जूझ रहा है और आपने यकीनन इस पर नज़र बनाए रखी होगी।

India

कोरोनावायरस दूसरा लहर: देश के 129 जिले चिंता की बात है, हर दिन मिल 5000 से जियाडा प्रकरण

देश में कोरोना संभावित रोगियों की संखया तेजी से बढ़ रही है। कोरोना (कोरोना) के बढ़ते आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो गुरुग्राम (गुरुग्राम) में 10 लाख लोगों पर कोरोना के नए केसों (कोरोना केस) की संख्‍या 11,695 है। इसके साथ ही कोलकाता में प्रति 10 लाख पर कोरोना के 9,494 नए केस सामने आ रहे

%d bloggers like this: