विधानसभा चुनाव: 5 राज्यों के ‘खेले’ में आज फैसला, केरल से बंगाल तक सबकी निगाहें होंगी

India


नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में हुए विधानसभा चुनाव के ‘खेले’ में किस खिलाड़ी के सिर सजेगा मिजाज? इसका फैसला आज होगा। हालांकि सबकी निगाहें पश्चिम बंगाल पर होंगी, जहां सत्तारुढ़ टीएमसी को बीजेपी ने कड़ी टक्कर दी है। इस लड़ाई में चिपक पर ममता बनर्जी का सियासी इकबाल भी हैं, क्योंकि नंदीग्राम में ममता बनर्जी के सामने उनके पुराने सहयोगी रहे सुवेंदु अधिकारी की चुनौती है, ऐसे में चुनावी ‘खेला’ का ग्रैंड फिनाले नाज़ीग्राम का मुकाबला ही होगा। बंगाल में जहां बीजेपी सत्ताधारी पार्टी को चुनौती कर रही है, वही असम में उसे अपनी सरकार बचानी है। असम में कांग्रेस की अगुवाई वाला महाजोत की तुलना में है। इन दोनों राज्यों के अलावा तमिलनाडु में बीजेपी और अन्नाद्रमुक के सामने डीएमके की चुनौती है, तो बंगाल में ममता के खिलाफ हाथ मिलाने वाले कांग्रेस और लेफ्ट की टक्कर केरल में हो रही है। केरल में लेफ्ट के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन के सामने कांग्रेस की चुनौती है, यह देखते हुए कि क्या विजयन अपनी कुर्सी बचा पाने में सफल रहते हैं कि नहीं। टीएमसी बनाम बीजेपीपी पश्चिम बंगाल विधानभा की 292 सीटों के लिए 27 मार्च से 29 अप्रैल के बीच आठ चरणों में मतदान कराए गए हैं। राज्य में मुख्य मुकाबला ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी और बीजेपी के बीच है। लेकिन, की तुलना में कांग्रेस और लेफ्ट का गठन भी है। इसके अलावा अन्य छोटी-छोटी पार्टियां भी हैं। दिलचस्प यह है कि बंगाल में हर चरण में मतदान प्रतिशत 80 के लगभग रहा है। देखना ये है कि ममता के खिलाफ बीजेपी का आक्रामक अभियान कितना रंग लाता है। राज्य के 23 जिलों में फैले मतगणना केंद्रों पर कम से कम 292 प्रतियोगियों और केंद्रीय सुरक्षा बलों की 256 कंपनियों को तैनात किया गया है। अधिकारियों के मुताबिक दक्षिण 24 परगना में सबसे अधिक 15 मतगणना केंद्र हैं, जबकि कलीपमोंग, अलीपुरद्वार और झारग्राम में एक-एक मतगणना केंद्र बनाए गए हैं। महाजत की तुलना में बी.जे.पी.असम की 126 विधानसभा सीटों पर तीन चरणों में हुए चुनावों में कुल 82.04 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया है। राज्य में बीजेपी के सामने सत्ता बचाने की चुनौती है। सीएए और एनआरसी को लेकर मचे हमामे के बाद असम विधानसभा चुनाव बीजेपी के प्रदर्शन पर सबकी निगाहें, तो पार्टी की कोशिश सत्ता बनाए रखने की है। देखना ये होगा कि कांग्रेस की अगुवाई वाला गठबंधन असमिया चाय का स्वाद ले पाता है कि नहीं। असम में मतगणना के लिए 331 केंद्रों पर सुरक्षा के त्रिस्तरीय इतंजाम किए गए हैं। राज्य में 27 मार्च, एक अप्रैल और छह अप्रैल को तीन चरणों में मतदान हुआ था। यूडीएफ + एलडीएफ केरल में 140 विधानसभा सीटों पर हुए चुनाव में मुख्यमंत्री पिनराई विजयन, उनके काउंटर के 11 सदस्य, विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ओम्मन चांडी, भाजपा के राज्य इकाई के प्रमुख के। सुरेंद्रन, ‘मेट्रोमैन’ ई। श्रीधरन और पूर्व केंद्रीय मंत्री के जे अलफोंस सहित 957 उम्मीदवार मैदान में हैं। सभी एक्जिट पोल और चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों में सत्तारूढ़ गठबंधन के लिए जीत का अनुमान जताया गया है, लेकिन विपक्षी यूडीएफ ने उम्मीद नहीं छोड़ी है।
द्रविड़ राजनीति का किंग कौन? TN में अभिनेता-नेता कमल हासन के मक्कल निधी मैयम सहित चार गठबंधन मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक और मुख्य विपक्षी द्रमुक के बीच है। मुख्यमंत्री के। पलानीस्वामी, उपमुख्यमंत्री ओ। पन्नीरसेल्वम, द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन, उनके बेटे उदयनिधि स्टालिन, अम्मा मक्काल मुनेत्र कज़गम के प्रमुख टीटीवी उद्नीकरण, एमएनएम के हसन और भाजपा की राज्य इकाई के प्रमुख एल। मुरूगन सहित लगभग 4000 उम्मीदवार मैदान में हैं। 234 विधानसभा सीटों पर चुनाव हुए। इसके अलावा कन्याकुमारी लोकसभा सीट पर उपचुनाव भी हुआ था, जहां कांग्रेस के विजय वसंत और भाजपा के पोन राधाकृष्णन के बीच मुख्य मुकाबला है। एनआर कांग्रेस बनाम द्रमुक कांग्रेस केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी के लिए पूर्व मुख्यमंत्री एन। रंगास्वामी नीत ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस-भाजपा गठबंधन और कांग्रेस-द्रमुक गठबंधन के बीच मुख्य मुकाबला है। एक्जिट पोल में रंगास्वामी नीत मोर्चे की जीत की संभावना जताई गई है। केंद्र शासित प्रदेश में वोटों की गिनती के लिए 1382 कर्मियों को तैनात किया गया है, जबकि लगभग 400 पुलिसकर्मी सुरक्षा में तैनात हैं। EC ने ‘मतगणना’ की तैयारी की पांच राज्यों व केंद्र शासित प्रदेश की कुल 822 विधानसभा सीटों पर मतों की गणना रविवार सुबह आठ बजे से शुरू होगी। आयोग ने कहा कि पांचों सूबों में कुल 2,364 केंद्रों में मतगणना होगी। वर्ष 2016 में मतगणना केंद्रों की कुल संख्या 1,002 थी। इस बार कोरोनावायरस के प्रकोप को रोकने के लिए चुनाव द्वारा भौतिक दूरी के नियम का पालन किए जाने के कारण मतगणना केंद्रों की संख्या में 200 प्रतिशत वृद्धि की गई है। पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक 1,113, केरल में 633, असम में 331, तमिलनाडु में 256 और पुडुचेरी में 31 किलोमीटर बनाए गए हैं। आयोग ने चार राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में मतगणना के लिए 822 निर्वाचन अधिकारियों और 7,000 से अधिक सहायक निर्वाचन अधिकारियों को नामित किया है। सूक्ष्म पर्यवेक्षकों सहित लगभग 95 हजार मतगणना अधिकारी मतगणना का काम करेंगे। मतगणना दिवस को लेकर आयोग द्वारा जारी नए दिशा-निर्देशों के अनुसार कोविद -19 नेगेटिव रिपोर्ट के अनुसार एलए बिना किसी भी उम्मीदवार या उसके एजेंट को मतगणना कक्ष में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।





Source link

5 राज्य चुनाव परिणाम असम चुनाव परिणाम असम विधानसभा चुनाव 2021 केरल केरल चुनाव परिणाम केरल विधानसभा चुनाव 2021 कोरोनावाइरस टीका चुनाव आयोग चुनाव परिणाम २०२१ तमिलनाडु चुनाव परिणाम तमिलनाडु विधानसभा चुनाव 2021 पश्चिम बंगाल पश्चिम बंगाल चुनाव परिणाम 2021 पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 पांच राज्य विधानसभा चुनाव 2021 पुडुचेरी विधानसभा चुनाव 2021 पुदुचेरी चुनाव परिणाम ममता बनर्जी विधानसभा चुनाव परिणाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

कड़े नियम अपनाएं जाएं तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर: पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार

पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन। कोरोनावायरस थर्ड वेव: विजयराघवन ने कहा कि यदि हम मजबूत उपाय करते हैं, तो तीसरी लहर कहीं भी नहीं हो सकती है। नई दिल्ली। भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा है कि अगर कड़े नियम अपनाएं जाएं तो कोरोनावायरस की तीसरी लहर (कोरोनावायरस थर्ड वेव)

India

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की कोरोना से मौत, दिल्ली के एम्स में भर्ती थी: रिपोर्ट

कोरोनावायरस से चेतन्य छोटा राजन (फाइल फोटो) था छोटा राजन का निधन: 61 वर्षीय राजन 2015 में इंडोनेशिया के बाली से प्रत्यर्पण के बाद अपनी गिरफ्तारी के बाद से ही दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद था। तिहाड़ जेल प्रशासन ने सोमवार को दिल्ली की एक सत्र अदालत को छोटा राजन के संदिग्ध होने की

India

भारत को अगर कोरोना पर काबू पाना है तो शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञ की बात सुनें

ज़का – इस वक्त भारत को विभाजित 19 की दूसरी लहर से जूझ रहा है और आपने यकीनन इस पर नज़र बनाए रखी होगी।

India

कोरोनावायरस दूसरा लहर: देश के 129 जिले चिंता की बात है, हर दिन मिल 5000 से जियाडा प्रकरण

देश में कोरोना संभावित रोगियों की संखया तेजी से बढ़ रही है। कोरोना (कोरोना) के बढ़ते आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो गुरुग्राम (गुरुग्राम) में 10 लाख लोगों पर कोरोना के नए केसों (कोरोना केस) की संख्‍या 11,695 है। इसके साथ ही कोलकाता में प्रति 10 लाख पर कोरोना के 9,494 नए केस सामने आ रहे

%d bloggers like this: