महाराष्ट्र: घरेलू कर्मियों को अब हर 15 दिन पर नहीं करनी होगी कोविड टेस्ट, सरकार ने वापस लिया फैसला

India


सीएम ठाकरे ने कहा कि सरकार अगले एक महीने तक गरीब और जरूरतमंदों को 3 किलो गेंहूं और 2 किलो चावल देगी। (प्रतीकात्मक चित्र: रॉयटर्स)

घरेलू मदद के लिए कोरोनावायरस नियम: इस सप्ताह जारी की गई गाइडलाइंस के अनुसार, घरेलू कर्मियों को हाउसिंग सोसाइटी में प्रवेश के लिए नेगेटिव सर्टिफिकेट रखना जरूरी किया गया था। ऐसा नहीं करने पर 1000 रुपए का जुर्माना लगाने की बात कही गई थी।

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार (महाराष्ट्र सरकार) ने घरेलू कर्मचारियों की कोरोनावायरस (कोरोनावायरस) जांच को लेकर बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने पहले हर 15 दिनों में आरटी-पीसीआर जांच किए जाने की बात कही थी, लेकिन हालात को देखते हुए यह फैसला वापस ले लिया गया है। हालांकि, सरकार ने यह साफ किया है कि मेड, ड्राइवर, नोट करने वालों को नियमित तापमान जांच और ऑक्सीजन की निगरानी जरूरी है।

सूत्र के मुताबिक, सरकार को महसूस हुआ कि इससे टेस्टिंग व्यवस्था पर बेवजह का असर पड़ेगा और इससे वास्तविक मामले प्रभावित होंगे। इसके बाद यह निर्णय लिया गया है। राज्य के सचिव असीम कुमार गुप्ता ने टीओआई से बातचीत में बताया कि टेस्टिंग रिलायंस के लिए घरेलू कर्मियों की जांच प्रक्रिया बढ़ रही थी और सरकार को को विभाजित अर्थव्यवस्था पर देखते हुए इसपर रोक लगानी चाहिए। उन्होंने साफ किया कि जिन लोगों को को विभाजित लक्षण नजर आ रहे हैं, उनकी जांच जरूरी है।

इस सप्ताह जारी की गई गाइडलाइंस के अनुसार, घरेलू कर्मियों को हाउसिंग सोसाइटी में प्रवेश के लिए नेगेटिव सर्टिफिकेट जारी करना आवश्यक है। ऐसा करने पर 1000 रुपए का जुर्माना नहीं लगेगा। पुणे में कई हाउसिंग सोसाइटी ने सरकार के इस फैसले के खिलाफ आवाज उठाई थी। इसी तरह का एक और आदेश राज्य सरकार की ओर से जारी किया गया था, जिसमें सभी कर्मियों को केंद्र सरकार के मापदंडों के अनुसार, वैक्सीन लगवाने के लिए कहा गया था।

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र कर्फ्यू: मुंबईकरों को चिंता- घरेलू कर्मी काम पर आएंगे या नहीं, बीएमसी ने मांगा जवाबइसके अलावा वैक्सीन लगाए जाने तक नेगेटिव आरटी-पीसीआर सर्टिफिकेट साथ रखना होगा। ये 15 दिन तक वैध रहेंगे। कोल्हापुर, पुणे, साक्षरता और सतारा सहित राज्य के कई उद्योगों ने सरकार के फैसले का विरोध किया था। दक्षिण महाराष्ट्र में उद्योगों और व्यवसायों का कहना था कि सरकार को उनपर कडे की शर्तें लागू नहीं करनी चाहिए। क्योंकि वे पहले ही पुराने लॉकडाउन के कारण नुकसान उठा रहे हैं।

महाराष्ट्र में शुक्रवार को कोरोनावायरस के 63,729 नए मामले सामने आए, जो अभी तक एक दिन में सबसे ज्यादा मामले हैं। इसके साथ ही राज्य में कुलिटेन्स की संख्या 37 लाख से अधिक हो गई है, जबकि 398 और लोगों की संक्रमण से मौत हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने दी थी।








Source link

। शिखर जांच कोरोनावायरस महाराष्ट्र कोविद परीक्षण घरेलू कर्मी घरेलू मदद महाराष्ट्र कोरोना वारस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

कोविड️️️ कोविड️ कोविड️ कोविड️ कोविड️ कोविड️️️️️

हाईकोर्ट ने बॉर्डर पर एकारेंस रोकने के फैसले पर रोक लगा दी है। (संकेत चित्र) तेलंगाना पुलिस राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में पड़ोसी आंध्रप्रदेश से आने वाले मरीजों की एकरेंस को रोक रही थी। पुलिस को अलग-अलग मरीजों को सिर्फ अस्पताल और बेड के लिए अनुमति मिल जाने के बाद ही जाने दे रही थी।

रेलवे ने “रोज नहीं चल रही 18 गाड़ियों  फेरों में की कटौती”
India

रेलवे ने “रोज नहीं चल रही अठारह गाड़ियों के फेरों में की कटौती”

रेलवे ने – कोरोना (कोरोना) संक्रमण के बढ़ते प्रकोप की वजह से ट्रेनों को रद्द करने के साथ-साथ उनके फेरो में कटौती का लगातार की

India

टीके की कमी की सूचना इस पर अमल करता है

कोविशय्लड. (फाइल फोटो) Coronavirus Vaccine: कोविशीद की डोडो के खराब होने की वजह से ऐसा किया जाता है।………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………… टीका लोगों में ।जार्ड असर को इसके लिए यूके में अप्रैल के आखिरी सप्ताह में जो प्रमाण आया उसमे तीन से चार महीने में टीका लगाने से कोविशील्ड का प्रभाव बेहतर होता है। नई दिल्ली। केंद्र सरकार

भारतीयों के लिए स्पूतनिक -वी को मिली हरी झंडी, जानें कोविशील्ड से कइटनी तंत्रिका
India

भारतीयों के लिए स्पूतनिक -वी को मिली हरी झंडी, जानें कोविशील्ड से कइटनी तंत्रिका

 

 
भारतीयों-के-लिए-स्पूतनिक (शापूनिक की कीमतों का ऐलान हो चुका है। )
 

 

भारत में स्पुतनिक वी: हैदराबाद में स्पूतनिक- वी के शुक्रवार को पहले डोज दिए गए हैं।

%d bloggers like this: