भारत पहुंची रूस की कोरोना वैक्सीन ‘स्पूतनिक वी’, तीसरे चरण के टीकाकरण में मदद मिलेगी

India


केंद्र सरकार ने रूसी कोविद वैक्लाइन शपुतोनिक-वी के निरीक्षण को मंजूरी दी है। । (फाइल तस्वीर)

रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी: कोविड -19 के रूसी टीके ‘स्पूतनिक-वी के तीसरे चरण के परीक्षण में यह 91.6 प्रतिशत प्रभावी साबित हुआ है और कोई क्षमता भी नजर नहीं आई। ‘द लैंसेट’ जर्नल में प्रकाशित आंकड़ों के अंतरिम विश्लेषण में यह दावा किया गया है।

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वैक्सीन की कमी के बीच रूसी की स्पुतोनिक वैक्सीन (रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी) आज भारत पहुंच गई है। स्पुतोनिक वैक्सीन के भारत आने से तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में तेजी से देखने को मिलेगा। भारत में 18 से 44 साल के लोगों के लिए तीसरे चरण का वैक्सीनेशन (टीकाकरण का तीसरा चरण) आज से शुरू हो गया है। तीसरे चरण के लिए भारी संख्या में लोगों ने अपना पंजीकरण करवाया है। स्पूटेनिक-वी वैक्सीन को गमालया नेशनल रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेम सियोलिंग और माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित किया गया है। स्पूतनिक वी (स्पुतनिक वी) दो खुराक का टीका है। पहली खुराक लेने के बाद 21 वें दिन दूसरी खुराक लेनी होगी। टीका लेने के 28 वें और 42 वें दिन के बीच शरीर में कोरोनावायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी।

ट्रायल में प्रभावी रहाशुरुआत में इस वैक्सीन की क्षमता पर सवाल खड़े किए गए, लेकिन बाद में जब इस साल फरवरी में ट्रायल के डेटा को द लांसेट में पब्लिश किया गया तो इसमें इस वैक्सीन को सेफ और इफेक्टिव को बताया गया। दरअसल, कोविड -19 के रूसी टीके ‘स्पूतनिक-वी के तीसरे चरण के परीक्षण में यह 91.6 प्रतिशत प्रभावी साबित हुआ है और कोई क्षमता भी नजर नहीं आई। ‘द लैंसेट’ जर्नल में प्रकाशित आंकड़ों के अंतरिम विश्लेषण में यह दावा किया गया है। अध्ययन के ये नतीजे लगभग 20,000 प्रतिभागियों से एकत्र किए गए आंकड़ों के विश्लेषण पर आधारित हैं। भारत ने दी है इस्तेमाल के लिए मंजूरी इसके कुछ महीने बाद अप्रैल महीने में भारत में रूसी कोरोना टीके ‘स्पूतनिक वी’ के उपयोग के लिए मंजूरी दे दी गई। भारत के केंद्रीय औषधि प्राधिकरण की एक विशेषज्ञ समिति ने देश में कुछ शर्तों के साथ रूसी कोरोना टीके ‘स्पूतनिक वी’ के उपयोग में मंजूरी देने की सिफारिश की थी, जिस पर भारत के औषधि महानियंत्रक (जीजीआई) ने अपनी मुहर लगाई है। गमालया इंस्टीट्यूट ने दावा किया की कि स्पुतनिक-वी कोरोना के खिलाफ अब तक सभी टीकर में सबसे अधिक प्रभावी है।








Source link

कोरोना कोरोना टीकाकरण अभियान कोरोना वैक्लिन कोरोना वैक्सीन कोरोनाकीकरण अभियान कोरोना कोवाक्सिन कोविशिल्ड कोविषील्ड शुक्राणु वी स्पुतनिक वी स्पूतनिक वैक्सीन िनxxin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

कड़े नियम अपनाएं जाएं तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर: पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार

पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन। कोरोनावायरस थर्ड वेव: विजयराघवन ने कहा कि यदि हम मजबूत उपाय करते हैं, तो तीसरी लहर कहीं भी नहीं हो सकती है। नई दिल्ली। भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा है कि अगर कड़े नियम अपनाएं जाएं तो कोरोनावायरस की तीसरी लहर (कोरोनावायरस थर्ड वेव)

India

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की कोरोना से मौत, दिल्ली के एम्स में भर्ती थी: रिपोर्ट

कोरोनावायरस से चेतन्य छोटा राजन (फाइल फोटो) था छोटा राजन का निधन: 61 वर्षीय राजन 2015 में इंडोनेशिया के बाली से प्रत्यर्पण के बाद अपनी गिरफ्तारी के बाद से ही दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद था। तिहाड़ जेल प्रशासन ने सोमवार को दिल्ली की एक सत्र अदालत को छोटा राजन के संदिग्ध होने की

India

भारत को अगर कोरोना पर काबू पाना है तो शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञ की बात सुनें

ज़का – इस वक्त भारत को विभाजित 19 की दूसरी लहर से जूझ रहा है और आपने यकीनन इस पर नज़र बनाए रखी होगी।

India

कोरोनावायरस दूसरा लहर: देश के 129 जिले चिंता की बात है, हर दिन मिल 5000 से जियाडा प्रकरण

देश में कोरोना संभावित रोगियों की संखया तेजी से बढ़ रही है। कोरोना (कोरोना) के बढ़ते आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो गुरुग्राम (गुरुग्राम) में 10 लाख लोगों पर कोरोना के नए केसों (कोरोना केस) की संख्‍या 11,695 है। इसके साथ ही कोलकाता में प्रति 10 लाख पर कोरोना के 9,494 नए केस सामने आ रहे

%d bloggers like this: