पंजाब में बसों से 50 फीसदी सवारियों की शर्त हटी, डीजल के बढ़ते दाम के कारण बदला फैसला

Published by Razak Mohammad on

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़
Updated Sun, 28 Jun 2020 10:22 AM IST

कैप्टन अमरिंदर सिंह (फाइल फोटो)
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

तेल की कीमतों में भारी वृद्धि के कारण सार्वजनिक यातायात की मजबूरी के मद्देनजर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मिनी बसों समेत सभी बसों में सवारियां ले जाने की क्षमता पर लगाई गई रोक को हटाने का एलान किया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि बसों में सफर के दौरान प्रत्येक सवारी को मास्क पहनना अनिवार्य होगा।

मुख्यमंत्री के यह एलान शनिवार को हरियाऊ खुर्द के एक निवासी द्वारा बसें न चलने के कारण पातड़ां आने-जाने में आ रही समस्या के संबंध में किए सवाल का जवाब देते हुए किया। राज्य सरकार ने इससे पहले कोविड संकट के कारण 50 प्रतिशत सवारियों की क्षमता के साथ बसें चलाने की आज्ञा दी थी। 

‘कैप्टन से सवाल’ नामक प्रोग्राम की अगली कड़ी के तहत फेसबुक लाइव के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें पता चला है कि इससे होने वाले वित्तीय घाटे खासकर डीजल और पेट्रोल की रोजाना बढ़ रही कीमतों के कारण निश्चित की गई क्षमता के साथ बसें चलाना संभव नहीं रह गया है। उन्होंने कहा कि इससे यात्रियों को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। 

उन्होंने सफर के दौरान मास्क पहनने का सख्ती से पालन करने की जरूरत पर जोर दिया क्योंकि मास्क से कोविड का फैलाव 70 प्रतिशत तक घट सकता है। पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ने के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी इस संबंध में पहले ही प्रस्ताव पास कर चुकी है और उनको उम्मीद है कि केंद्र सरकार यह वृद्धि वापस लेगी।

तेल की कीमतों में भारी वृद्धि के कारण सार्वजनिक यातायात की मजबूरी के मद्देनजर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मिनी बसों समेत सभी बसों में सवारियां ले जाने की क्षमता पर लगाई गई रोक को हटाने का एलान किया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि बसों में सफर के दौरान प्रत्येक सवारी को मास्क पहनना अनिवार्य होगा।

मुख्यमंत्री के यह एलान शनिवार को हरियाऊ खुर्द के एक निवासी द्वारा बसें न चलने के कारण पातड़ां आने-जाने में आ रही समस्या के संबंध में किए सवाल का जवाब देते हुए किया। राज्य सरकार ने इससे पहले कोविड संकट के कारण 50 प्रतिशत सवारियों की क्षमता के साथ बसें चलाने की आज्ञा दी थी। 

‘कैप्टन से सवाल’ नामक प्रोग्राम की अगली कड़ी के तहत फेसबुक लाइव के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें पता चला है कि इससे होने वाले वित्तीय घाटे खासकर डीजल और पेट्रोल की रोजाना बढ़ रही कीमतों के कारण निश्चित की गई क्षमता के साथ बसें चलाना संभव नहीं रह गया है। उन्होंने कहा कि इससे यात्रियों को बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। 

उन्होंने सफर के दौरान मास्क पहनने का सख्ती से पालन करने की जरूरत पर जोर दिया क्योंकि मास्क से कोविड का फैलाव 70 प्रतिशत तक घट सकता है। पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ने के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी इस संबंध में पहले ही प्रस्ताव पास कर चुकी है और उनको उम्मीद है कि केंद्र सरकार यह वृद्धि वापस लेगी।

Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *