देश के सबसे बुजुर्ग धर्मगुरुओं में से एक डॉ मार क्रायसोस्टोम का 103 की आयु में निधन

India


क्रायसोस्टोम पूर्व राष्ट्रपति केआर नारायण और दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी सहित देश के कई बड़े नेताओं के करीबी रहे। (फोटो: फेसबुक/@Rev.Dr.MarChrysostom)

डॉ। फिलिप मार क्राइसोस्टॉम निधन: देश के सबसे बुजुर्ग बिशप (बिशप) में से एक उन्हें वर्ष 1944 में पुजारी बनाया गया था। वे 1953 में बिशप बने। इसके बाद वर्ष 1999 में उन्हें मारथोमा चर्च का मेट्रोपॉलिटन बनाया गया था। वर्ष 2010 में रिटायरमेंट तक वे इस पद पर रहे।

तिरुवनंतपुरम। देश के सबसे बुजुर्ग धर्मगुरुओं में से एक डॉ। फिलिपोज मार क्रायसोस्टोम (डॉ फिलिप मार क्रिसस्टॉम) दुनिया को अलविदा कह गए। उन्होंने केरल के पाठनमठित्ता जिले में थिरुवला के एक निजी अस्पताल में 103 साल की उम्र में अंतिम सांस ली। डॉ। क्रेयोस्टोस्टोम के निधन पर केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (पिनारयी विजयन) ने शोक व्यक्त किया है। उन्होंने धर्मगुरु के निधन के देश के लिए बड़ी क्षति बताई है। डॉ। क्रेयसोस्टोम का बुधवार रात 1:30 बजे निधन हो गया था। मलंकरा मार थोमा सीरियन चर्च के सबसे वरिष्ठ मेट्रोपॉलिटन अपने ज्ञानवर्धक भाषणों के कारण प्रसिद्ध थे। वर्ष 1918 में जन्में क्रायसोस्टोम ने बीती 27 अप्रैल को ही अपना 103 वां जन्मदिन मनाया था। क्रायसोस्टोम को कई बार ‘चिरियुडे पिथवु’ कहकर संबोधित किया जाता था। मलयाली में इसका अर्थ था- बुद्धि और ज्ञान के पिता। सीओवीआईडी ​​-19: बॉक्सिंग फेडरेशन के डायरेक्टर आरके परस्ती का कोरोना से निधन, आईओए ने जताया दुख इसके अलावा वे अपने मजाकिया अंदाज के लिए भी खासे मशहूर थे। वे हमेशा देश के धर्म निरपेक्ष आदर्शों के लिए खड़े रहते हैं। उन्होंने हमेशा अपने भाषणों औऱ लेखनी के माध्यम से लोगों को शिकायत करने के बजाए खुश रहने के लिए प्रेरित किया है। वर्ष 2018 में उन्हें देश के तीसरे सबसे बड़े नागरिक पुरस्कार पद्मभूषण से स म्मानित किया गया। साल 2017 में चर्च ने अपने 100 वें जन्मदिन को मनाने के लिए नवोदय मुहिम की शुरुआत की थी। इस मुहिम का मकसद ट्रांसजेंडर समुदाय की भलाई और उन्हें बुनियादी ढांचे में लाने के लिए काम करना था।

देश के सबसे बुजुर्ग बिशप में से एक उन्हें वर्ष 1944 में पुजारी बनाया गया था। वे 1953 में बिशप बने। इसके बाद वर्ष 1999 में उन्हें मारथोमा चर्च का मेट्रोपॉलिटन बनाया गया था। वर्ष 2010 में रिटायरमेंट तक वे इस पद पर रहे। विशेष बात है कि अपने जीवन काल में क्रायसोस्टोम पूर्व राष्ट्रपति केआर नारायण और दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी सहित देश के कई बड़े नेताओं के करीबी रहे।








Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

एक्सपर्ट बोले- मई के मध्य से अंत तक कोरोना के मामलों में आने लगेगी गिरावट

मशहूर विशेषज्ञ गगनदी कांग की भविष्यवाणी, मई मध्य से अंत तक कोरोना के मामले में गिरावट आ जाएगी कोरोनावायरस अपडेट: विशेषज्ञों ने कहा कि वर्तमान में यह उन क्षेत्रों में जा रहा है, जहां वह पिछले साल नहीं पहुंचा है। मध्य वर्ग को अपना शिकार बना रहा है, ग्रामीण क्षेत्र में अपना पैर पसार है

India

सिर्फ पिनुय विजयन की वजह से नहीं, एकजुट प्रयास से मिली केरल में जीत: माकपा मुखपत्र

इस प्रचंड जीत के साथ विजयन केरल में तीसरे ऐसे मुख्यमंत्री हो गए हैं जिनकी अगुवाई में लगातार कुछ चुनाव जीते गए। केरल विधानसभा चुनाव: मुखपत्र के संपादन और माकपा के पूर्व महासचिव प्रकाश करत इस संपादकीय में विजयन को ‘सुप्रीम लीडर’ (सर्वोच्च नेता) या ‘स्ट्रांग मैन’ (सशक्त व्यक्ति) कहे जाने पर आपत्ति जताते हुए

India

दिल्ली के बाद महाराष्ट्र में केंद्र ने लगाए आरोप, स्वास्थ्य मंत्री बोले-ऑक्सीजन आवंटन में 50% टन की कमी

वर्तमान में कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी देखी जा रही है। महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की आपूर्ति: महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने कहा कि यदि ऑक्सीजन की आपूर्ति बहाल नहीं की गई तो हम गंभीर कमी का सामना करेंगे। उन्होंने कहा कि हमें इस अवधि में केंद्र से अधिक ऑक्सीजन मिलनी आवश्यक है। मुंबई।

India

Covid-19: USIBC अध्यक्ष ने कहा, भारत में यदि स्थिति भयावह रहती है तो दुनिया की भी यही स्थिति होगी

छत्तीसगढ़ में कोरोना से अब तक 9950 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में यदि स्थिति खौफुली बनी रहती है तो फिर दुनिया की स्थिति भी भयावह बनी रहती है। भारत और अमेरिका के बीच व्यापार बढ़ाने की वकालत करने वाले एक प्रमुख समूह ने यह बात कही है। नई दिल्ली। भारत में यदि