तीसरे वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने इग्लैंड को हराकर जीती सीरीज, बेयरस्टो का शतक गया बेकार 

Published by Razak Mohammad on


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹365 & To get 20% off, use code: 20OFF

ख़बर सुनें

मैनचेस्टर में खेले गए तीसरे वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को तीन विकेट से हराकर सीरीज अपने नाम कर ली। मैच रोमांचक स्थिति में जाकर 50वें ओवर में खत्म हुआ। इंग्लैंड ने पहले खेलते हुए ऑस्ट्रेलिया के सामने 303 रनों का लक्ष्य रखा। ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट खोकर 49.9 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया। ग्लेन मैक्सवेल ने 108 रनों की शानदार पारी खेली और उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। 

ऑस्ट्रेलिया की ओर से एडम जंपा और मिशेल स्टार्क ने तीन-तीन विकेट हासिल किए। आखिरी मैच में जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली। पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने जबकि दूसरा वनडे इंग्लैंड ने जीता था। 

जॉनी बेयरस्टो का शतक

इससे पहले जॉनी बेयरस्टो के शतक की मदद से इंग्लैंड ने खराब शुरुआत से उबरकर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे और निर्णायक एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में बुधवार को सात विकेट पर 302 रन का मजबूत स्कोर बनाया। 

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिए उतरे इंग्लैंड ने मिशेल स्टार्क की मैच की पहली दो गेंदों पर दो विकेट गंवा दिए थे। लेकिन बेयरस्टॉ ने 126 गेंदों पर 12 चौकों और दो छक्कों की मदद से 112 रन की पारी खेली और इस बीच सैम बिलिंग्स (58 गेंदों पर 56) के साथ पांचवें विकेट के लिये 114 रन जोड़कर इंग्लैंड को चार विकेट पर 90 रन की खराब स्थिति से उबारा। क्रिस वोक्स (39 गेंदों पर नाबाद 53) ने फिर से अंतिम ओवरों में अच्छे रन जुटाए।

एडम जंपा और मिचेल स्टार्क ने तीन-तीन विकेट लिए

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से लेग स्पिनर एडप जंपा ने 51 रन देकर तीन विकेट लिए। स्टार्क शुरुआती सफलता के बाद प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे। उन्होंने भी तीन विकेट लिए लेकिन इसके लिए 74 रन लुटाए। स्टार्क की मैच की पहली गेंद पर जेसन रॉय ने प्वाइंट पर ग्लेन मैक्सवेल को कैच दिया जबकि अगली गेंद पर उन्होंने जो रूट को पगबाधा आउट किया। मॉर्गन ने उनकी हैट्रिक नहीं बनने दी, लेकिन वह भी क्रीज पर पर्याप्त समय बिताने के बावजूद लंबी पारी नहीं खेल पाए।

जंपा ने 11वें ओवर में गेंद संभाली और अपनी दूसरी गेंद पर ही मॉर्गन की 23 रन की पारी और बेयरस्टो के साथ उनकी 67 रन की साझेदारी का अंत कर दिया। जोस बटलर (आठ) श्रृंखला के तीसरे मैच में दोहरे अंक में पहुंचने में नाकाम रहे और जंपा की गेंद पर कवर पर कैच देकर पवेलियन लौटे। बटलर तीन वनडे में केवल 12 रन बना पाए।

बेयरस्टो दूसरे छोर से बेफिक्र होकर खेलते रहे, लेकिन शतक के करीब पहुंचने पर वह थोड़ा धीमे पड़ गए। उन्होंने हालांकि पैट कमिंस पर डीप स्क्वायर लेग पर छक्का जड़कर अपना दसवां वनडे शतक पूरा किया। बेयरस्टॉ और पहले मैच में शतक जड़ने वाले बिलिंग्स ने ऑस्ट्रेलिया को अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठाने दिया। इस साझेदारी को जंपा ने तोड़ा लेकिन तब बिलिंग्स ने रिवर्स स्वीप करके अपनी गलती से विकेट गंवाया था। उन्होंने अपनी पारी में चार चौके और दो छक्के लगाये।

कमिंस ने गति में परिवर्तन करके खूबसूरत गेंद पर बेयरस्टॉ की गिल्लियां बिखेरकर ऑस्ट्रेलिया को डेथ ओवरों से पहले बड़ी राहत दिलाई, इसके बाद वोक्स ने अच्छी जिम्मेदारी संभाली और अपनी पारी में छह चौके लगाए तथा इस बीच अपना पांचवां वनडे अर्धशतक पूरा किया। टॉम करन ने 19 और आदिल राशिद ने नाबाद रन का योगदान दिया।

मैनचेस्टर में खेले गए तीसरे वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को तीन विकेट से हराकर सीरीज अपने नाम कर ली। मैच रोमांचक स्थिति में जाकर 50वें ओवर में खत्म हुआ। इंग्लैंड ने पहले खेलते हुए ऑस्ट्रेलिया के सामने 303 रनों का लक्ष्य रखा। ऑस्ट्रेलिया ने सात विकेट खोकर 49.9 ओवर में लक्ष्य हासिल कर लिया। ग्लेन मैक्सवेल ने 108 रनों की शानदार पारी खेली और उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। 

ऑस्ट्रेलिया की ओर से एडम जंपा और मिशेल स्टार्क ने तीन-तीन विकेट हासिल किए। आखिरी मैच में जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली। पहला मैच ऑस्ट्रेलिया ने जबकि दूसरा वनडे इंग्लैंड ने जीता था। 

जॉनी बेयरस्टो का शतक

इससे पहले जॉनी बेयरस्टो के शतक की मदद से इंग्लैंड ने खराब शुरुआत से उबरकर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे और निर्णायक एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में बुधवार को सात विकेट पर 302 रन का मजबूत स्कोर बनाया। 

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिए उतरे इंग्लैंड ने मिशेल स्टार्क की मैच की पहली दो गेंदों पर दो विकेट गंवा दिए थे। लेकिन बेयरस्टॉ ने 126 गेंदों पर 12 चौकों और दो छक्कों की मदद से 112 रन की पारी खेली और इस बीच सैम बिलिंग्स (58 गेंदों पर 56) के साथ पांचवें विकेट के लिये 114 रन जोड़कर इंग्लैंड को चार विकेट पर 90 रन की खराब स्थिति से उबारा। क्रिस वोक्स (39 गेंदों पर नाबाद 53) ने फिर से अंतिम ओवरों में अच्छे रन जुटाए।

एडम जंपा और मिचेल स्टार्क ने तीन-तीन विकेट लिए

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से लेग स्पिनर एडप जंपा ने 51 रन देकर तीन विकेट लिए। स्टार्क शुरुआती सफलता के बाद प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे। उन्होंने भी तीन विकेट लिए लेकिन इसके लिए 74 रन लुटाए। स्टार्क की मैच की पहली गेंद पर जेसन रॉय ने प्वाइंट पर ग्लेन मैक्सवेल को कैच दिया जबकि अगली गेंद पर उन्होंने जो रूट को पगबाधा आउट किया। मॉर्गन ने उनकी हैट्रिक नहीं बनने दी, लेकिन वह भी क्रीज पर पर्याप्त समय बिताने के बावजूद लंबी पारी नहीं खेल पाए।

जंपा ने 11वें ओवर में गेंद संभाली और अपनी दूसरी गेंद पर ही मॉर्गन की 23 रन की पारी और बेयरस्टो के साथ उनकी 67 रन की साझेदारी का अंत कर दिया। जोस बटलर (आठ) श्रृंखला के तीसरे मैच में दोहरे अंक में पहुंचने में नाकाम रहे और जंपा की गेंद पर कवर पर कैच देकर पवेलियन लौटे। बटलर तीन वनडे में केवल 12 रन बना पाए।

बेयरस्टो दूसरे छोर से बेफिक्र होकर खेलते रहे, लेकिन शतक के करीब पहुंचने पर वह थोड़ा धीमे पड़ गए। उन्होंने हालांकि पैट कमिंस पर डीप स्क्वायर लेग पर छक्का जड़कर अपना दसवां वनडे शतक पूरा किया। बेयरस्टॉ और पहले मैच में शतक जड़ने वाले बिलिंग्स ने ऑस्ट्रेलिया को अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठाने दिया। इस साझेदारी को जंपा ने तोड़ा लेकिन तब बिलिंग्स ने रिवर्स स्वीप करके अपनी गलती से विकेट गंवाया था। उन्होंने अपनी पारी में चार चौके और दो छक्के लगाये।

कमिंस ने गति में परिवर्तन करके खूबसूरत गेंद पर बेयरस्टॉ की गिल्लियां बिखेरकर ऑस्ट्रेलिया को डेथ ओवरों से पहले बड़ी राहत दिलाई, इसके बाद वोक्स ने अच्छी जिम्मेदारी संभाली और अपनी पारी में छह चौके लगाए तथा इस बीच अपना पांचवां वनडे अर्धशतक पूरा किया। टॉम करन ने 19 और आदिल राशिद ने नाबाद रन का योगदान दिया।



Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *