जिला के मंदिरों में दूसरे दिन भी पहुंचे बहुत कम लोग

Published by Razak Mohammad on

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹365 & To get 20% off, use code: 20OFF

ख़बर सुनें

सोलन/कुठाड़(सोलन)। सोलन जिले में धार्मिक स्थलों में हालांकि 10 सितंबर से खोल दिया गया है, लेकिन दूसरे दिन भी मंदिरों में दर्शन के लिए बहुत कम लोग पहुंचे। मंदिरों में सुबह आरती के बाद नौ बजे से दर्शन के लिए कपाट खोले जा रहे हैं। वहीं शुक्रवार को बाबा हरिपुर गुरुद्वारा के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं।
कोरोना के चलते बाबा हरिपुर गुरुद्वारा के कपाट छह महीने से बंद थे । सुबह जब गुरुद्वारा का मुख्य गेट खुला तो कमेटी के सदस्यों ने लोगों से सामाजिक दूरी का पालन करवाकर, बिना किसी चढ़ावे के लाइन से माथा टेकने के लिए भेजा। माथा टेकने से पूर्व लोगों ने हाथ धोने के लिए पानी और सैनिटाइजर का प्रयोग किया। परिसर में भोग और अन्य सामान की कुछ दुकानें खुलीं। इन दुकानों से कुछ भी न खरीदने से दुकानदार मायूस नजर आए, लेकिन कुछ दुकानों से श्रद्धालुओं ने सिर ढकने के लिए रूमाल की खरीददारी की। सरकार की कोविड गाइडलाइन पर चर्चा करने के बाद कमेटी और सेवादार सभी नियमों का पालन कर रहे हैं ।
इनसेट
बाहरी राज्यों के लोगों की कोविड रिपोर्ट के बाद होगी एंट्री
स्थानीय गुरुद्वारा कमेटी के मुख्तयार रणजीत सिंह बंगा और सेवादार जोगिंदर सिंह, कुलदीप सिंह ने बताया कि श्रद्धालु गुरुद्वारे में सुबह सात बजे से रात 9 बजे तक मुख्य स्थान पर दर्शन कर सकते है, लेकिन मुख्य स्थान में भोग या अन्य वस्तु नहीं चढ़ाई जा सकेगी । परिसर में किसी भी चीज को छूने की मनाही है। गुरुद्वारा परिसर में आगामी आदेशों तक श्रद्धालुओं के लिए लंगर सेवा और रात्रि में ठहरने की व्यवस्था भी बंद है। कमेटी के सदस्यों ने बताया कि स्थानीय संगत को छोड़कर अन्य राज्यों से आने वाली संगत को गुरुद्वारा में प्रवेश करने से पूर्व कोविड टेस्ट की रिपोर्ट प्रस्तुत करनी जरूरी है। बिना कोविड रिपोर्ट के किसी भी श्रद्धालु का परिसर में प्रवेश नही होगा।
पुलिस टीम भी ले रही जानकारी
गुरुद्वारा में 60 वर्ष से ऊपर और 15 वर्ष से कम की आयु वाले श्रद्धालुओं सहित गर्भवती महिलाओं को भी प्रवेश की इजाजत नहीं है। उन्होंने बताया कि गुरुद्वारा में दर्शन करने के लिए प्रथम दिन स्थानीय लोगों की ज्यादा संख्या रही, जबकि बाहर के लोग न के बराबर थे। गुरुद्वारा में प्रवेश के लिए सभी लोगों को सामाजिक दूरी का पालन करने, मास्क और सैनिटाइजर के प्रयोग की हिदायत दी जा रही है। उधर, थाना प्रभारी बरोटीवाला मोहर सिंह चौहान ने बताया कि पुलिस मुख्य गेट पर चौकसी से बाहर से आने वाले सभी श्रद्धालुओं की जांच कर रही है।

सोलन/कुठाड़(सोलन)। सोलन जिले में धार्मिक स्थलों में हालांकि 10 सितंबर से खोल दिया गया है, लेकिन दूसरे दिन भी मंदिरों में दर्शन के लिए बहुत कम लोग पहुंचे। मंदिरों में सुबह आरती के बाद नौ बजे से दर्शन के लिए कपाट खोले जा रहे हैं। वहीं शुक्रवार को बाबा हरिपुर गुरुद्वारा के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं।

कोरोना के चलते बाबा हरिपुर गुरुद्वारा के कपाट छह महीने से बंद थे । सुबह जब गुरुद्वारा का मुख्य गेट खुला तो कमेटी के सदस्यों ने लोगों से सामाजिक दूरी का पालन करवाकर, बिना किसी चढ़ावे के लाइन से माथा टेकने के लिए भेजा। माथा टेकने से पूर्व लोगों ने हाथ धोने के लिए पानी और सैनिटाइजर का प्रयोग किया। परिसर में भोग और अन्य सामान की कुछ दुकानें खुलीं। इन दुकानों से कुछ भी न खरीदने से दुकानदार मायूस नजर आए, लेकिन कुछ दुकानों से श्रद्धालुओं ने सिर ढकने के लिए रूमाल की खरीददारी की। सरकार की कोविड गाइडलाइन पर चर्चा करने के बाद कमेटी और सेवादार सभी नियमों का पालन कर रहे हैं ।

इनसेट

बाहरी राज्यों के लोगों की कोविड रिपोर्ट के बाद होगी एंट्री
स्थानीय गुरुद्वारा कमेटी के मुख्तयार रणजीत सिंह बंगा और सेवादार जोगिंदर सिंह, कुलदीप सिंह ने बताया कि श्रद्धालु गुरुद्वारे में सुबह सात बजे से रात 9 बजे तक मुख्य स्थान पर दर्शन कर सकते है, लेकिन मुख्य स्थान में भोग या अन्य वस्तु नहीं चढ़ाई जा सकेगी । परिसर में किसी भी चीज को छूने की मनाही है। गुरुद्वारा परिसर में आगामी आदेशों तक श्रद्धालुओं के लिए लंगर सेवा और रात्रि में ठहरने की व्यवस्था भी बंद है। कमेटी के सदस्यों ने बताया कि स्थानीय संगत को छोड़कर अन्य राज्यों से आने वाली संगत को गुरुद्वारा में प्रवेश करने से पूर्व कोविड टेस्ट की रिपोर्ट प्रस्तुत करनी जरूरी है। बिना कोविड रिपोर्ट के किसी भी श्रद्धालु का परिसर में प्रवेश नही होगा।
पुलिस टीम भी ले रही जानकारी
गुरुद्वारा में 60 वर्ष से ऊपर और 15 वर्ष से कम की आयु वाले श्रद्धालुओं सहित गर्भवती महिलाओं को भी प्रवेश की इजाजत नहीं है। उन्होंने बताया कि गुरुद्वारा में दर्शन करने के लिए प्रथम दिन स्थानीय लोगों की ज्यादा संख्या रही, जबकि बाहर के लोग न के बराबर थे। गुरुद्वारा में प्रवेश के लिए सभी लोगों को सामाजिक दूरी का पालन करने, मास्क और सैनिटाइजर के प्रयोग की हिदायत दी जा रही है। उधर, थाना प्रभारी बरोटीवाला मोहर सिंह चौहान ने बताया कि पुलिस मुख्य गेट पर चौकसी से बाहर से आने वाले सभी श्रद्धालुओं की जांच कर रही है।

Source link

Categories: Solan

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *