गोविंद ठाकुर बोले- स्कूल और कॉलेज खुलने पर ही लागू होगी नई शिक्षा नीति

Himachal Pradesh News


अमर उजाला नेटवर्क, शिमला

द्वारा प्रकाशित: कृष्ण सिंह
Updated Mon, 03 मई 2021 06:31 PM IST

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर
– फोटो: अमर उजाला

ख़बर सुनना

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने की प्रक्रिया भी प्रभावित हुई है। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने बताया कि विभागीय स्तर पर कई योजनाएं तैयार कर ली गई हैं। स्कूल और कॉलेजों के खुलने पर ही नीति लागू होगी। कोरोना संक्रमण अभी राह में रोड़ा बना है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की ड्यूटीकरण शुरू किया गया है। स्वास्थ्य विभाग पर काम का बोझ बहुत अधिक बढ़ गया है। टीकाकरण करने से अधिक समय पंजीकरण में लग रहा है। ऐसे में सरकार ने पंजीकरण के कार्य के लिए शिक्षकों की सेवाएं लेने का फैसला लिया है।

शिक्षा मंत्री ने सोमवार को राज्य सचिवालय में पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत में कहा कि ऑफ़लाइन अध्ययन को लेकर बहुत जल्द ही शिक्षा में बदलाव होंगे। इसके लिए संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। सरकारी स्कूलों में गूगल मीट और जूम एप के माध्यम से पढ़ाई करवाने की तैयारी है। अभी व्हाट्सअप ग्रुप के माध्यम से पढ़ाई करवाई जा रही है। इस माध्यम से बच्चों को शिक्षण सामग्री भेजी जा रही है। बच्चे के सवालों का जवाब देकर वापस भेज रहे हैं। इस तकनीक से सिलेबस का पूरा पढ़ाया जा रहा है लेकिन बच्चों के ज्ञान में वैकल्पिक वृद्धि नहीं हो रही है। कई सरकारी स्कूलों में आईसीटी रायपुर हैं। ऐसे में शिक्षा विभाग ने प्रथम अध्ययन में बदलाव लाने के लिए नया प्रस्ताव बनाया है।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने की प्रक्रिया भी प्रभावित हुई है। शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने बताया कि विभागीय स्तर पर कई योजनाएं तैयार कर ली गई हैं। स्कूल और कॉलेजों के खुलने पर ही नीति लागू होगी। कोरोना संक्रमण अभी राह में रोड़ा बना है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की ड्यूटीकरण शुरू किया गया है। स्वास्थ्य विभाग पर काम का बोझ बहुत अधिक बढ़ गया है। टीकाकरण करने से अधिक समय पंजीकरण में लग रहा है। ऐसे में सरकार ने पंजीकरण के कार्य के लिए शिक्षकों की सेवाएं लेने का फैसला लिया है।

शिक्षा मंत्री ने सोमवार को राज्य सचिवालय में पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत में कहा कि ऑफ़लाइन अध्ययन को लेकर बहुत जल्द ही शिक्षा में बदलाव होंगे। इसके लिए संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। सरकारी स्कूलों में गूगल मीट और जूम एप के माध्यम से पढ़ाई करवाने की तैयारी है। अभी व्हाट्सअप ग्रुप के माध्यम से पढ़ाई करवाई जा रही है। इस माध्यम से बच्चों को शिक्षण सामग्री भेजी जा रही है। बच्चे के सवालों का जवाब देकर वापस भेज रहे हैं। इस तकनीक से सिलेबस का पूरा पढ़ाया जा रहा है लेकिन बच्चों के ज्ञान में वैकल्पिक वृद्धि नहीं हो रही है। कई सरकारी स्कूलों में आईसीटी रायपुर हैं। ऐसे में शिक्षा विभाग ने प्रथम अध्ययन में बदलाव लाने के लिए नया प्रस्ताव बनाया है।





Source link

गोविंद ठाकुर समाचार नई शिक्षा नीति नई शिक्षा नीति हिमाचल नवीनतम हिमाचल प्रदेश समाचार हिंदी में शिक्षा समाचार हिमाचल हिमाचल प्रदेश समाचार हिंदी में हिमाचल प्रदेश हिंदी समचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Himachal Pradesh News

कीरतपुर-नेरचौक के चरण का काम 15 दिन में शुरू होगा

अमर उजाला वायरलेस, बिलासपुर

द्वारा प्रकाशित: कृष्ण सिंह
अपडेट किया गया सूर्य, 16 मई 2021 02:56 AM IST

सर
कीरतपुर-नेरचौक फील्ड फील्ड के फील्ड का निर्माण

Himachal Pradesh News

से

अमर उजाला संयुक्त, मीठी

द्वारा प्रकाशित: कृष्ण सिंह
अपडेट किया गया शनिवार, 15 मई 2021 10:53 PM IST

सर
21 मई को पूर्व प्रधानमंत्री महात्मा

Himachal Pradesh News

10वीं क्लास के कंपार्टमेंट और ओएस

अमर उजाला संयुक्त, मीठी

द्वारा प्रकाशित: कृष्ण सिंह
अपडेट किया गया शनि, 15 मई 2021 09:47 PM IST

सर
इस शीर्षक के नाम से बना है

Himachal Pradesh News

#ladengecoronase: कंगड़ा के स्केंस्क ने 83 लाख की मौसम, चिकित्सक उपकरण

{“_id”:”६०९फ़े९डी९७२९३ए२२ई००७८६८९६”, “स्लग”:”लेडेंगकोरोनसे-कप्तान-संजय-ऑफ-कांगड़ा-दे-८३-लाख-दवा-चिकित्सा-उपकरण”, “प्रकार”: “कहानी”, “स्थिति”:” publish”,”title_hn”:”#ladengecoronase: u0915u093eu0902u0917u0921u093cu093e u0915u0947 u0915u0948u092au094du091fu0928 u0938u0902u091 u0928u0947 u0926u0940 83 u0932u093eu0916 u0915u0940 u0926u0935u093eu090fu0902, u091au093fu0915u093fu0924u094du0938u0924u094du0938 u0915u0930u0923″, “श्रेणी”: {“शीर्षक”: “शहर और राज्य”, “शीर्षक_एचएन”:”u0936u0939u0930