कोरोना: 50 लाख के पार हुए मामले, यही रफ्तार रही तो दिवाली तक दोगुने होने की आशंका

Published by Razak Mohammad on


भारत में मंगलवार को कोरोना महामारी के मामले 50 लाख के पार चले गए हैं। हर दिन देश में कोविड-19 के 80,000-90,000 मामले सामने आ रहे हैं। जानकारों को डर है कि अगर यही ट्रेंड बना रहा तो 14 नवंबर यानि कि दिवाली के दिन ये मामले दोगुने हो सकते हैं। 

अगर रोजाना सामने आ रहे मामलों में गिरावट नहीं आई तो अगले 60 दिनों में देश में कोरोना के मामले एक करोड़ को पार कर सकते हैं। बता दें कि देश में पहली बार कोरोना का मामला 30 जनवरी को सामने आया था और तब से लेकर अब तक 228 दिनों में कोरोना के मामले 50 लाख के पार चले गए हैं।

भारत में बुधवार को कोरोना के सक्रिय मामले दस लाख पहुंच जाएंगे। वहीं अकेले महाराष्ट्र राज्य से कोविड-19 मामलों की सबसे ज्यादा संख्या है, ये संख्या 19.82 फीसदी है। कोरोना को लेकर एक बात सकारात्मक है कि यहां महामारी से ठीक होने वाले मरीजों की दर ज्यादा है। 

मौजूदा समय में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की दर 78.42 फीसदी हो गई है और मृत्यु दर 1.63 फीसदी है। पांच राज्यों में कुल सक्रिय मरीजों के 60 फीसदी मामले हैं। इनमें से महाराष्ट्र के 29.3 फीसदी, कर्नाटक के 9.9 फीसदी, आंध्र प्रदेश के 9.4 फीसदी, उत्तर प्रदेश के 6.8 फीसदी और तमिलनाडु के 4.7 फीसदी मामले शामिल हैं।

अगर हाल ही के हफ्तों की बात करें तो तीन हफ्ते में दुनिया में सबसे ज्यादा 21.8 फीसदी मामले भारत में मिले। वहीं एक हफ्ते में भी दुनिया के 36.9 फीसदी कोरोना के नए मरीज भारत में ही आए हैं। रोजाना सामने आ रहे कोरोना के मामलों में भारत ने अमेरिका को पछाड़ दिया है।  

तीन महीने में अमेरिका में 21.4 फीसदी कोरोना के नए मामले सामने आए लेकिन भारत में इसकी संख्या 21.8 फीसदी है, वहां ब्राजील में 16.4 फीसदी और बाकी दुनिया में 26.4 फीसदी है। इसके अलावा बात करें पिछले एक हफ्ते की भारत में अमेरिका से दोगुने मामले सामने आए हैं।

पिछले एक हफ्ते में अमेरिका नए मामलों की दर 15.6 फीसदी है जबकि भारत में यह दर 30.8 फीसदी है। पिछले एक हफ्ते में भारत में सबसे ज्यादा कोविड-19 के मामले सामने आए हैं। पिछले एक हफ्ते में अमेरिका में कोरोना के 13.7 फीसदी मामले सामने आए तो वहीं भारत में ये आंकड़ा 36.9 फीसदी है।

हालांकि पूरी दुनिया में कोरोना के कुल मामलों में भारत का योगदान देखेंगे तो ये महज 16.91 फीसदी है जबकि अमेरिका इसमें भारत से आगे है। अमेरिका में यह संख्या 22.82 फीसदी है। ऐसा माना जा रहा है कि आज दुनिया में कोरोना के मामले तीन करोड़ हो जाएंगे। 

अमेरिकी के सीडीसी के अनुसार, 1918-1919 में इंफ्लूएंजा से दुनिया में 50 करोड़ लोग संक्रमित हुए थे। इसका मतलब यह है कि उस समय दुनिया की एक तिहाई आबादी इस बीमारी से संक्रमित हो गई थी। बता दें कि पहले कोरोना के मामले एक करोड़ होने में 156 दिन लगे थे लेकिन इसके बाद दो करोड़ होने में मात्र 44 दिन लगे।



Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *