कोरोना से पत्नी-भाभी की मौत के बाद इंस्पेक्टर ने ड्यूटी के लिए 2 महीने बढ़ाई तेरहवीं, बोले- शायद किसी को बचा लुन

India


प्रयागराज जिले की कोतवाली में इंस्पेक्टर नरेन्द्र प्रसाद की इस समय पूरे जिले में चर्चा है।

प्रयागराज समाचार: इंस्पेक्टर नरेन्द्र प्रसाद की पत्नी मालती देवी और भाभी उर्मिला देवी को अंशकालीन थी। 21 अप्रैल को इंस्पेक्टर नरेन्द्र प्रसाद की भाभी उर्मिला देवी की मौत हो गई। नरेन्द्र प्रसाद भाभी के अंतिम संस्कार की तैयारी ही कर रहे थे कि अगले दिन 22 अप्रैल को उनकी पत्नी का भी देहांत हो गया।

प्रयागराज। कोरोना (COVID-19) की इस वैश्विक महामारी में लाखों जिन्दगियां लील ली हैं। यह महामारी में जहां कई लोगों ने अपने लोगों और सगे संबंधीों को खो दिया है। वहीं कोरोना से चेतन लोगों को अस्पतालों में इलाज और ऑक्सीजन (ऑक्सीजन) की कमी के कारण अपनी आंखों के सामने दम टूटते हुए भी देखा गया है। इस मंजर को देखने के बाद कई लोग पूरी तरह से टूट जाते हैं और अवसाद तक में भी चले जाते हैं। वहीं संगम नगरी प्रयागराज (प्रयागराज) में यूपी पुलिस के एक ऐसे अधिकारी भी हैं, जो कोरोना की महामारी के चलते अपनी पत्नी और सगी भाभी को चुनने के बाद भी अपनी फर्ज खेलते रहे हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं एक ऐसे पुलिस अधिकारी की, जिनकी चर्चा इन दिनों पूरे प्रयागराज में है। उन्होंने कोरोना की महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण अपनी पत्नी और भाभी का अंतिम संस्कार तो किया लेकिन त्रयोदशी संस्कार का कार्यक्रम दो महीने तक के लिए सुरक्षित कर दिया। वह 6 दिन में ही बच्चों की आंखों के आंसू पोछते हुए खाकी का फर्ज निभाने अपनी ड्यूटी पर भी वापस लौट आए हैं। उनके इस हौसले को लेकर पुलिस के आलाधिकारी भी बेहद भावुक हैं और उनकी जमकर सराहना भी कर रहे हैं। प्रयागराज जिले की कोतवाली में इंस्पेक्टर नरेन्द्र प्रसाद मूल रूप से मऊ जिले के रहने वाले हैं। नरेन्द्र प्रसाद 1998 में यूपी पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर चयनित थे। 23 वर्षों की नौकरी में कई जिलों में सेवायें दे चुके हैं। पिछले कुछ वर्षों से प्रयागराज जिले में तैनाती के दौरान कई महत्वपूर्ण थानों में इनकी तैनाती हो रही है। लेकिन कोरोना की इस महामारी में ये पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। नरेन्द्र प्रसाद की पत्नी मालती देवी और भाभी उर्मिला देवी दोनों को अलग-अलग हो गयीं थी। जिसके बाद ऑक्सीजन लेवल कम होने पर उन्होंने दोनों को एसआरएन अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया। लेकिन इस दौरान भगवान को कुछ और ही मंजूर था। 21 अप्रैल को इंस्पेक्टर नरेन्द्र प्रसाद की भाभी उर्मिला देवी की मौत हो गई। इस बीच नरेन्द्र प्रसाद भाभी के अंतिम संस्कार की तैयारी ही कर रहे थे कि अगले दिन 22 अप्रैल को एक और मनहूस खबर आयी। उनकी पत्नी को भी कोरोना की महामारी लील गई.परिवार में दो-दो मौतों के बाद नरेन्द्र प्रसाद पूरी तरह से टूट गए लेकिन एक पुलिस कर्मी होने के नाते उन्होंने साहस और साहस से काम लिया। सबसे पहले उन्होंने भाभी और पत्नी का अंतिम संस्कार किया फिर बच्चों को संभाला। उनका बड़ा बेटा जहां चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ से। वहीं छोटा बेटा आईआईटी खड़गपुर से मेनिंग में बी कर रहा है। उन्होंने बच्चों को आगे की पढ़ाई जारी रखने और कैरियर बनाने के लिए जहां निर्दिष्ट किया है। वहाँ स्वयं भी कर्म पथ पर आगे बढ़ने के लिए खुद को मजबूत कर लिया है। नरेन्द्र प्रसाद के लिए यह बेहद कठिन समय था, लेकिन उन्होंने त्रयोदशी संस्कार करने के बजाय कोरोना के संक्रमण को देखते हुए क्रिया कर्म महीने के लिए विज्ञापन कर दिया। वे खुद भी छह दिन में ही 28 अप्रैल को फर्ज निभाने के लिए ड्यूटी पर लौट आये और फिर से जनता की सेवा में जुट गए हैं। उनका कहना है कि कोरोना की महामारी से वे अपनी पत्नी और भाभी को तो नहीं बचा सकते। लेकिन हो सकता है कि ड्यूटी पर बने रहें कुछ लोगों की मदद करनी चाहिए। जिससे लोगों की जान भी बच सकेगी। उनके बारे में उन्होंने कहा कि इस महामारी में पत्नी और भाभी सहित अपने छह मोटियों को खो दिया है इसलिए वे इस महामारी से हो रही मौतों के दर्द को भी बखूबी समझते हैं। समान वर्दी का फर्ज निभाने वाले इस खाकी में छिपे इंसान के चर्चे पूरे शहर भर में हो रहे हैं। आईजी प्रयागराज रेंज केपीसिंह भी इस बेमिसाल पुलिस अधिकारी के जज्बे की सराहना कर रहे हैं और सलाम भी कर रहे हैं। उनका मानना ​​है कि जिस तरह उन्होंने मुश्किल की घड़ी में निजी समस्याओं के बजाय ड्यूटी को प्राथमिकता दी वह दूसरे पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए मिसाल है।








Source link

प्रयागराज न्यूज़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

India

कड़े नियम अपनाएं जाएं तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर: पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार

पीएम मोदी के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन। कोरोनावायरस थर्ड वेव: विजयराघवन ने कहा कि यदि हम मजबूत उपाय करते हैं, तो तीसरी लहर कहीं भी नहीं हो सकती है। नई दिल्ली। भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा है कि अगर कड़े नियम अपनाएं जाएं तो कोरोनावायरस की तीसरी लहर (कोरोनावायरस थर्ड वेव)

India

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन की कोरोना से मौत, दिल्ली के एम्स में भर्ती थी: रिपोर्ट

कोरोनावायरस से चेतन्य छोटा राजन (फाइल फोटो) था छोटा राजन का निधन: 61 वर्षीय राजन 2015 में इंडोनेशिया के बाली से प्रत्यर्पण के बाद अपनी गिरफ्तारी के बाद से ही दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद था। तिहाड़ जेल प्रशासन ने सोमवार को दिल्ली की एक सत्र अदालत को छोटा राजन के संदिग्ध होने की

India

भारत को अगर कोरोना पर काबू पाना है तो शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञ की बात सुनें

ज़का – इस वक्त भारत को विभाजित 19 की दूसरी लहर से जूझ रहा है और आपने यकीनन इस पर नज़र बनाए रखी होगी।

India

कोरोनावायरस दूसरा लहर: देश के 129 जिले चिंता की बात है, हर दिन मिल 5000 से जियाडा प्रकरण

देश में कोरोना संभावित रोगियों की संखया तेजी से बढ़ रही है। कोरोना (कोरोना) के बढ़ते आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो गुरुग्राम (गुरुग्राम) में 10 लाख लोगों पर कोरोना के नए केसों (कोरोना केस) की संख्‍या 11,695 है। इसके साथ ही कोलकाता में प्रति 10 लाख पर कोरोना के 9,494 नए केस सामने आ रहे

%d bloggers like this: