आनी में तूफान से सेब की फसल तबाह

Published by Razak Mohammad on

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

दलाश (कुल्लू)। रविवार रात आनी उपमंडल के बागवानों के लिए कयामत की रात साबित हुई। उपमंडल की 14 पंचायतों में तूफान ने सेब की फसल को भारी क्षति पहुंचाई है। इस वर्ष पहले ही मौसम की मार झेल रहे बागवानों की फसल का उत्पादन बीते वर्षों की अपेक्षा में कम हुआ था, वहीं रही सही कसर तूफान ने पूरी कर दी है।
जानकारी के मुताबिक रविवार रात करीब 12 बजे उपमंडल की विभिन्न पंचायतों में तूफान ने भारी तबाही मचाई है। आनी उपमंडल की पोखरी, कराड़, मोहाण, टकरासी, बिश्लाधार, दलाश, डिंगीधार, ब्यूंगल, तलूणा, बैहना, जाबण, नम्होंग, कुठेड़ और तांदी पंचायत में बागवानों की वर्ष भर की मेहनत पूरी तरह से नष्ट कर दी है। सोमवार को जब बागवान अपने बगीचों में पहुंचे तो देखा कि तूफान से सेब की फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई है। इस वर्ष शुरुआती दौर में ही सेब की फ्लावरिंग के समय ओलावृष्टि से बागवानों की फसल को नुकसान पहुंच गया था। वहीं, अब जब एक माह बाद क्षेत्र में सेब सीजन शुरू होने वाला था तो तूफान ने कहर बनकर बागवानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। बागवानों के आगे अब आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।
क्षेत्र के पीयूष शर्मा, राकेश शर्मा, कुंदन शर्मा, संजीव शर्मा, बिन्नी, सन्नी, सुभाष, देवराज और प्रदीप सहित अन्य बागवानों ने प्रदेश सरकार और बागवानी विभाग से नुकसान का आकलन कर उचित मुआवजा देने की मांग की है। बागवानी विभाग के एसएमएस केएल कटोच ने बताया कि उन्हें सेब की फसलों को नुकसान होने की सूचना मिली है। फील्ड से नुकसान की रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट मिलते ही सरकार को भेज दी जाएगी।

दलाश (कुल्लू)। रविवार रात आनी उपमंडल के बागवानों के लिए कयामत की रात साबित हुई। उपमंडल की 14 पंचायतों में तूफान ने सेब की फसल को भारी क्षति पहुंचाई है। इस वर्ष पहले ही मौसम की मार झेल रहे बागवानों की फसल का उत्पादन बीते वर्षों की अपेक्षा में कम हुआ था, वहीं रही सही कसर तूफान ने पूरी कर दी है।

जानकारी के मुताबिक रविवार रात करीब 12 बजे उपमंडल की विभिन्न पंचायतों में तूफान ने भारी तबाही मचाई है। आनी उपमंडल की पोखरी, कराड़, मोहाण, टकरासी, बिश्लाधार, दलाश, डिंगीधार, ब्यूंगल, तलूणा, बैहना, जाबण, नम्होंग, कुठेड़ और तांदी पंचायत में बागवानों की वर्ष भर की मेहनत पूरी तरह से नष्ट कर दी है। सोमवार को जब बागवान अपने बगीचों में पहुंचे तो देखा कि तूफान से सेब की फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई है। इस वर्ष शुरुआती दौर में ही सेब की फ्लावरिंग के समय ओलावृष्टि से बागवानों की फसल को नुकसान पहुंच गया था। वहीं, अब जब एक माह बाद क्षेत्र में सेब सीजन शुरू होने वाला था तो तूफान ने कहर बनकर बागवानों की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। बागवानों के आगे अब आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।

क्षेत्र के पीयूष शर्मा, राकेश शर्मा, कुंदन शर्मा, संजीव शर्मा, बिन्नी, सन्नी, सुभाष, देवराज और प्रदीप सहित अन्य बागवानों ने प्रदेश सरकार और बागवानी विभाग से नुकसान का आकलन कर उचित मुआवजा देने की मांग की है। बागवानी विभाग के एसएमएस केएल कटोच ने बताया कि उन्हें सेब की फसलों को नुकसान होने की सूचना मिली है। फील्ड से नुकसान की रिपोर्ट मांगी गई है। रिपोर्ट मिलते ही सरकार को भेज दी जाएगी।

Source link

Categories: Rampur Bushahar

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *