अटल टनल बहाल, अभी सिस्सू-केलांग नहीं जा पाएंगे सैलानी

Published by Razak Mohammad on

अमर उजाला नेटवर्क, बंजार/रोहतांग
Updated Fri, 08 Jan 2021 09:28 PM IST

लाहौल में बर्फ के बीच गुजरता वाहन।
– फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

हिमाचल में प्रदेश में 10280 फीट ऊंचाई से गुजरने वाले औट-लुहरी एनएच-305 को अटल टनल और जलोड़ी दर्रा होकर छोटे वाहनों के लिए बहाल कर दिया गया है। शनिवार से इस एनएच से छोटे वाहनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी। हालांकि, सड़क पर फिसलन होने के कारण हादसों का खतरा बना हुआ है। ऐसे में पर्यटक अटल टनल रोहतांग से होकर केलांग और सिस्सू नहीं जा पाएंगे। 

उधर, हिम तथा अवधाव अध्ययन संस्थान बाहंग (सासे) ने मनाली और लाहौल के दर्जनों क्षेत्रों में शनिवार को हिमस्खलन की चेतावनी जारी की है। जिला प्रशासन ने इसको लेकर अलर्ट जारी कर दिया है।  शुक्रवार सुबह रोहतांग सहित ऊंची चोटियों पर बर्फ के फाहे गिरे। चार दिन बाद धूप खिलने से लोगों को कड़कती ठंड से निजात मिली। मनाली-केलांग हाइवे अटल टनल रोहतांग होकर फोर वाई फोर वाहनों के लिए बहाल हो गया है। सड़क में पानी जमने और ग्लेशियर गिरने के खतरे को देखते हुए फिलहाल टनल में अन्य वाहन नहीं भेजे जाएंगे। पर्यटक भी अटल टनल के नॉर्थ पोर्टल नहीं आ पाएंगे।

उधर, बर्फ का दीदार करने के लिए मनाली के स्नो प्वाइंटों पर रोज पर्यटकों का हुजूम उमड़ रहा है। क्षमता से अधिक पर्यटक वाहन पहुंचने से मनाली और आसपास के क्षेत्रों में लंबा जाम लग रहा है। कुल्लू जिले में शुक्रवार को भी मौसम साफ होते ही पर्यटक बर्फ का दीदार करने निकले। इससे पलचान से लेकर नेहरू कुंड तक छह किलोमीटर के क्षेत्र में कई घंटों तक जाम लगा रहा।   सड़क में वाहनों की लंबी कतारें लग रही। लंबा जाम लगने से पर्यटकों के साथ स्थानीय लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा। जाम के चलते कई पर्यटकों को बर्फ में अठखेलियां करने का मौका भी नहीं मिल पाया। मनाली में नववर्ष से लेकर जाम की स्थिति बन रही है। हालांकि पुलिस ने ड्रोन और अतिरिक्त जवानों की तैनाती कर मनालीवासियों को राहत प्रदान की थी। लेकिन शुक्रवार को फिर वही स्थिति देखने को मिली।

मनाली के पर्यटन व्यवसायी सुरेश,  चुन्नी लाल ने कहा कि हाल ही में बर्फबारी से भारी संख्या में पर्यटक मनाली पहुंचे हैं। ऐसे में पर्यटक वाहनों की संख्या में इजाफा है। उन्होंने कहा कि प्रशासन को सोलंगनाला तक ही पर्यटक वाहनों को जाने की अनुमति प्रदान की जानी चाहिए। मनाली होटलियर एसोसिएशन के प्रधान अनूप राम ठाकुर ने कहा कि मनाली में इस वर्ष रिकॉर्ड स्तर पर पर्यटक बर्फ में मस्ती करने पहुंचे हैं। सोलंगनाला बर्फ होने के कारण स्नो प्वाइंट बना हुआ है। ऐसे में प्रशासन को सोलंगनाला तक पर्यटकों को जाने की अनुमति प्रदान की जानी चाहिए, जिससे जाम की समस्या से निजात मिल पाएगी। उधर, स्नो स्कूटर एसोसिएशन के प्रधान भूमि देव ठाकुर ने कहा कि सोलंगनाला में वाहनों को पार्क करने के लिए खुला स्थान है। सोलंगनाला से पीछे कहीं पर भी जाम नहीं लगेगा। 

हिमाचल में प्रदेश में 10280 फीट ऊंचाई से गुजरने वाले औट-लुहरी एनएच-305 को अटल टनल और जलोड़ी दर्रा होकर छोटे वाहनों के लिए बहाल कर दिया गया है। शनिवार से इस एनएच से छोटे वाहनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी। हालांकि, सड़क पर फिसलन होने के कारण हादसों का खतरा बना हुआ है। ऐसे में पर्यटक अटल टनल रोहतांग से होकर केलांग और सिस्सू नहीं जा पाएंगे। 

उधर, हिम तथा अवधाव अध्ययन संस्थान बाहंग (सासे) ने मनाली और लाहौल के दर्जनों क्षेत्रों में शनिवार को हिमस्खलन की चेतावनी जारी की है। जिला प्रशासन ने इसको लेकर अलर्ट जारी कर दिया है।  शुक्रवार सुबह रोहतांग सहित ऊंची चोटियों पर बर्फ के फाहे गिरे। चार दिन बाद धूप खिलने से लोगों को कड़कती ठंड से निजात मिली। मनाली-केलांग हाइवे अटल टनल रोहतांग होकर फोर वाई फोर वाहनों के लिए बहाल हो गया है। सड़क में पानी जमने और ग्लेशियर गिरने के खतरे को देखते हुए फिलहाल टनल में अन्य वाहन नहीं भेजे जाएंगे। पर्यटक भी अटल टनल के नॉर्थ पोर्टल नहीं आ पाएंगे।


आगे पढ़ें

छह किलोमीटर तक लगीं वाहनों की कतारें

Source link


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *